पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की पहली घोषणा...

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की पहली घोषणा...

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट और इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई-मेंस अब साल में दो बार होगी। जेईई मेंस जनवरी व अप्रैल में और नीट फरवरी व मई में। छात्र नीट व जेईई-मेंस दोनों में शामिल हो सकेंगे। जिसमें ज्यादा नंबर, उसे दाखिले के लिए उसे माना जाएगा। परीक्षाएं नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) लेगी। जेईई-एडवांस्ड पहले की तरह आईआईटी ही कराएगा। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इसकी घोषणा की। नेट एग्जाम भी एनटीए आयोजित करेगी। पर अब ये साल में एक बार दिसंबर में ही होगी। सीमैट और जीपैट भी एनटीए ही कराएगी। दोनों जनवरी में होंगी। अब तक ये परीक्षाएं सीबीएसई कराती रही हैं।

टेस्ट शेड्यूल

नीट: फरवरी 2019 और मई में
ऑनलाइन फॉर्म भरने की प्रक्रिया: 1 से 31 अक्टूबर 2018 और मार्च दूसरे सप्ताह में

परीक्षा: 3 से 17 फरवरी और 12 से 26 मई में से छात्र कोई एक तारीख चुन सकते हैं।

नतीजे: मार्च पहले सप्ताह और जून पहले सप्ताह में

जेईई मेंस: जनवरी 2019 और अप्रैल 2019 में

फार्म भरेंगे: 1 से 30 सितंबर 2018 और फरवरी दूसरे सप्ताह में

परीक्षा: 6 से 20 जनवरी और 7 से 21 अप्रैल तक

नतीजे: फरवरी पहला सप्ताह- मई पहला सप्ताह

जेईई मेंस और नीट की परीक्षाएं अगले साल से दो बार होंगी, जिसमें ज्यादा नंबर होंगे उसी के आधार पर होगा एडमिशन
परीक्षा का तनाव, इंतजार कम करने वाला फैसला
वो सबकुछ जो आप जानना चाहते हैं
जेईई और नीट साल में दो बार से क्या लाभ?

स्टूडेंट्स को ज्यादा मौके मिलेंगे। 12वीं के बाद स्टूडेंट्स जेईई मेन छह बार दे सकेंगे। अब तक तीन बार दे पाते थे। नीट के चांस भी बढ़ेंगे। पर उम्र सीमा 25 साल तय हो गई है। दो बार एग्जाम से स्टूडेंट्स की तैयारी बेहतर होगी। जनवरी-फरवरी में एग्जाम के बाद अनुमान लग जाएगा कि परफॉर्मेंस कैसी है। दूसरे एग्जाम के लिए तीन महीने का मौका मिलेगा। परीक्षा न दे पाने से स्टूडेंट का पूरा साल खराब नहीं होगा।

एग्जाम पैटर्न में तो कोई बदलाव नहीं होगा?

नहीं। भाषा विकल्प, फीस वही रहेंगे, जो पहले थे। इनमें बदलाव नहीं होगा।

बोर्ड के साथ एग्जाम से दिक्कत तो होगी...

हां, 12वीं के साथ एग्जाम देने वालों को मेन या नीट पर फोकस करने का वक्त कम मिलेगा। क्योंकि जनवरी-फरवरी के फौरन बाद 12वीं बोर्ड एग्जाम की तैयारी करनी होगी।

क्या छात्र परीक्षा की तारीख चुन सकेगा?

हां, छात्र तारीख चुन सकेंगे। उन्हें दोनों परीक्षा में बैठने की जरूरत भी नहीं होगी। जनवरी में परीक्षा नहीं दिया तो अप्रैल में दे सकते हैं।

परीक्षाओं के नतीजे कैसे और कब आएंगे?

हर परीक्षा के बाद नंबर घोषित किए जाएंगे। पर मेरिट दोनों परीक्षाओं के नतीजे के बाद कॉमन बनेगी। एडमिशन भी उसी आधार पर मिलेगा।

परीक्षा ऑनलाइन होगी या ऑफलाइन?

ऑनलाइन ही होगी। प्रैक्टिस घर पर या कंप्यूटर सेंटर कर सकते में। इसके लिए एनटीए के पोर्टल पर पेपर अपलोड किए जाएंगे।

प्रैक्टिस के लिए कितने सेंटर खोले जाएंगे?

केंद्रीय वि‌‌‌द्यालय या इंजीनियरिंग कॉलेजों में टाइम स्लॉट फिक्स कर सेंटर खोले जाएंगे। घर पर भी सुविधा देने की कोशिश की जा रही।

ऑनलाइन एग्जाम से परेशानी तो नहीं होगी?

एनटीए की सबसे बड़ी चुनौती यही होगी। इसी साल पहली बार जेईई-एडवांस्ड ऑनलाइन हुआ और न्यूमेरिकल वैल्यू के प्रश्नों पर सवाल उठने लगेे। इसी मुद्दे पर मद्रास हाईकोर्ट कॉमन काउंसलिंग पर रोक लगा चुका है। गांव-देहात के बच्चे ऑनलाइन एग्जाम में सहज नहीं हैं।

दावा है कि ऑनलाइन एग्जाम से पेपर लीक नहीं होंगे? पर एसएससी में तो हुए थे...

एसएससी एग्जाम में परीक्षा लेनी वाली एजेंसी और सेंटर बनाने की प्रक्रिया में लापरवाही बरती गई थी। एसबीआई और आईबीपीएस की परीक्षा भी ऑनलाइन होती है। इनमें पेपर लीक होने या नकल जैसी शिकायतें नहीं आती हैं।


आनंद कुमार, सुपर 30 के संस्थापक श्यामा चोना, शिक्षाविद दिल्ली और कोटा में एक्सपर्ट्स से बातचीत के आधार पर

जेईई और नीट साल में दो बार से क्या लाभ?

स्टूडेंट्स को ज्यादा मौके मिलेंगे। 12वीं के बाद स्टूडेंट्स जेईई मेन छह बार दे सकेंगे। अब तक तीन बार दे पाते थे। नीट के चांस भी बढ़ेंगे। पर उम्र सीमा 25 साल तय हो गई है। दो बार एग्जाम से स्टूडेंट्स की तैयारी बेहतर होगी। जनवरी-फरवरी में एग्जाम के बाद अनुमान लग जाएगा कि परफॉर्मेंस कैसी है। दूसरे एग्जाम के लिए तीन महीने का मौका मिलेगा। परीक्षा न दे पाने से स्टूडेंट का पूरा साल खराब नहीं होगा।

एग्जाम पैटर्न में तो कोई बदलाव नहीं होगा?

नहीं। भाषा विकल्प, फीस वही रहेंगे, जो पहले थे। इनमें बदलाव नहीं होगा।

बोर्ड के साथ एग्जाम से दिक्कत तो होगी...

हां, 12वीं के साथ एग्जाम देने वालों को मेन या नीट पर फोकस करने का वक्त कम मिलेगा। क्योंकि जनवरी-फरवरी के फौरन बाद 12वीं बोर्ड एग्जाम की तैयारी करनी होगी।

क्या छात्र परीक्षा की तारीख चुन सकेगा?

हां, छात्र तारीख चुन सकेंगे। उन्हें दोनों परीक्षा में बैठने की जरूरत भी नहीं होगी। जनवरी में परीक्षा नहीं दिया तो अप्रैल में दे सकते हैं।

परीक्षाओं के नतीजे कैसे और कब आएंगे?

हर परीक्षा के बाद नंबर घोषित किए जाएंगे। पर मेरिट दोनों परीक्षाओं के नतीजे के बाद कॉमन बनेगी। एडमिशन भी उसी आधार पर मिलेगा।

परीक्षा ऑनलाइन होगी या ऑफलाइन?

ऑनलाइन ही होगी। प्रैक्टिस घर पर या कंप्यूटर सेंटर कर सकते में। इसके लिए एनटीए के पोर्टल पर पेपर अपलोड किए जाएंगे।

प्रैक्टिस के लिए कितने सेंटर खोले जाएंगे?

केंद्रीय वि‌‌‌द्यालय या इंजीनियरिंग कॉलेजों में टाइम स्लॉट फिक्स कर सेंटर खोले जाएंगे। घर पर भी सुविधा देने की कोशिश की जा रही।

ऑनलाइन एग्जाम से परेशानी तो नहीं होगी?

एनटीए की सबसे बड़ी चुनौती यही होगी। इसी साल पहली बार जेईई-एडवांस्ड ऑनलाइन हुआ और न्यूमेरिकल वैल्यू के प्रश्नों पर सवाल उठने लगेे। इसी मुद्दे पर मद्रास हाईकोर्ट कॉमन काउंसलिंग पर रोक लगा चुका है। गांव-देहात के बच्चे ऑनलाइन एग्जाम में सहज नहीं हैं।

दावा है कि ऑनलाइन एग्जाम से पेपर लीक नहीं होंगे? पर एसएससी में तो हुए थे...

एसएससी एग्जाम में परीक्षा लेनी वाली एजेंसी और सेंटर बनाने की प्रक्रिया में लापरवाही बरती गई थी। एसबीआई और आईबीपीएस की परीक्षा भी ऑनलाइन होती है। इनमें पेपर लीक होने या नकल जैसी शिकायतें नहीं आती हैं।

जेईई और नीट साल में दो बार से क्या लाभ?

स्टूडेंट्स को ज्यादा मौके मिलेंगे। 12वीं के बाद स्टूडेंट्स जेईई मेन छह बार दे सकेंगे। अब तक तीन बार दे पाते थे। नीट के चांस भी बढ़ेंगे। पर उम्र सीमा 25 साल तय हो गई है। दो बार एग्जाम से स्टूडेंट्स की तैयारी बेहतर होगी। जनवरी-फरवरी में एग्जाम के बाद अनुमान लग जाएगा कि परफॉर्मेंस कैसी है। दूसरे एग्जाम के लिए तीन महीने का मौका मिलेगा। परीक्षा न दे पाने से स्टूडेंट का पूरा साल खराब नहीं होगा।

एग्जाम पैटर्न में तो कोई बदलाव नहीं होगा?

नहीं। भाषा विकल्प, फीस वही रहेंगे, जो पहले थे। इनमें बदलाव नहीं होगा।

बोर्ड के साथ एग्जाम से दिक्कत तो होगी...

हां, 12वीं के साथ एग्जाम देने वालों को मेन या नीट पर फोकस करने का वक्त कम मिलेगा। क्योंकि जनवरी-फरवरी के फौरन बाद 12वीं बोर्ड एग्जाम की तैयारी करनी होगी।

क्या छात्र परीक्षा की तारीख चुन सकेगा?

हां, छात्र तारीख चुन सकेंगे। उन्हें दोनों परीक्षा में बैठने की जरूरत भी नहीं होगी। जनवरी में परीक्षा नहीं दिया तो अप्रैल में दे सकते हैं।

परीक्षाओं के नतीजे कैसे और कब आएंगे?

हर परीक्षा के बाद नंबर घोषित किए जाएंगे। पर मेरिट दोनों परीक्षाओं के नतीजे के बाद कॉमन बनेगी। एडमिशन भी उसी आधार पर मिलेगा।

परीक्षा ऑनलाइन होगी या ऑफलाइन?

ऑनलाइन ही होगी। प्रैक्टिस घर पर या कंप्यूटर सेंटर कर सकते में। इसके लिए एनटीए के पोर्टल पर पेपर अपलोड किए जाएंगे।

प्रैक्टिस के लिए कितने सेंटर खोले जाएंगे?

केंद्रीय वि‌‌‌द्यालय या इंजीनियरिंग कॉलेजों में टाइम स्लॉट फिक्स कर सेंटर खोले जाएंगे। घर पर भी सुविधा देने की कोशिश की जा रही।

ऑनलाइन एग्जाम से परेशानी तो नहीं होगी?

एनटीए की सबसे बड़ी चुनौती यही होगी। इसी साल पहली बार जेईई-एडवांस्ड ऑनलाइन हुआ और न्यूमेरिकल वैल्यू के प्रश्नों पर सवाल उठने लगेे। इसी मुद्दे पर मद्रास हाईकोर्ट कॉमन काउंसलिंग पर रोक लगा चुका है। गांव-देहात के बच्चे ऑनलाइन एग्जाम में सहज नहीं हैं।

दावा है कि ऑनलाइन एग्जाम से पेपर लीक नहीं होंगे? पर एसएससी में तो हुए थे...

एसएससी एग्जाम में परीक्षा लेनी वाली एजेंसी और सेंटर बनाने की प्रक्रिया में लापरवाही बरती गई थी। एसबीआई और आईबीपीएस की परीक्षा भी ऑनलाइन होती है। इनमें पेपर लीक होने या नकल जैसी शिकायतें नहीं आती हैं।

एनटीए क्या है और इसे क्यों बनाया गया है?
सीबीएसई पर परीक्षाओं का काफी दबाव बढ़ गया था। इसलिए शैक्षणिक योग्यता वाली परीक्षाओं का भार सीबीएसई नहीं ले पा रहा था। इसलिए एसएससी की तरह ही अलग शैक्षणिक योग्यता वाली परीक्षाओं को अलग कराने का फैसला किया गया। इस काम के लिए नेशनल टेस्टिंग एजेंसी यानी, एनटीए बनाई गई है। इसे बनाने का जिम्मा आईआईटी कानपुर को सौंपा गया। सरकार का दावा है इससे परीक्षा का स्तर सुधरेगा और संस्थानों को अच्छे छात्र मिलेंगे।

खबरें और भी हैं...