पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • संतोष ने बेटी को जन्म दिया तो नाराज पति करता था मारपीट, बाद में उसको घर से निकाला

संतोष ने बेटी को जन्म दिया तो नाराज पति करता था मारपीट, बाद में उसको घर से निकाला

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
केशव नगर निवासी एक युवती ने बेटी को जन्म क्या दिया, उसे पहले पति के हाथों प्रताड़ित होना पड़ा। बाद में उसे घर से ही निकाल दिया गया। जानकारी के अनुसार संतोष का पांच साल पहले जोधपुर स्थित डांगियावास के वीरेंद्र खींची के साथ विवाह हुआ। इसके छह महीने बाद ही संतोष ने अपने पति वीरेंद्र पर मारपीट करने का आरोप लगाया। साथ ही यह भी बताया कि पति को बेटा चाहिए था, लेकिन उसे बेटी हो गई। इससे खफा होकर वह छोटी छोटी बात पर बेटी और उसके साथ मारपीट करने लगा। परेशान होकर संतोष ने पिता नारायणलाल चंदेल व भाई जिग्नेश चंदेल को सूचना दी। इस पर पिता और भाई संतोष को अपने साथ पाली लेकर आए। यह मामला बाद में सखी वन स्टॉप सेंटर तक पहुंचा। यहां केंद्र प्रबंधक ज्योति श्रीवास्तव के नेतृत्व में काउंसलर राजश्री व भावना सुमन ने पति वीरेंद्र को बुलाकर दोनों के बीच समझाइश की। इसके बाद दोनों एक दूसरे के साथ रहने के लिए तैयार हो गए। इसके थोड़े दिन बाद ही आपसी अनबन के चलते दोनों के बीच वापस झगड़ा शुरू हो गया और संतोष फिर अपने पीहर आ गई।

पिता से एक लाख रुपए लाने का लगाया आरोप : संतोष ने पति वीरेंद्र पर आरोप लगाया कि वह और ससुर केवलचंद खींची, सास रामेश्वरी देवी उसे रोज ताने देते थे। साथ ही अपने पिता से एक लाख रुपए लाने के लिए हमेशा दबाव भी डालते हैं। मना करने पर बार बार पीहर छोड़ने की धमकी देते थे।

पाली. संतोष अपनी बेटी संध्या के साथ।

वीरेंद्र शादी के छह महीने बाद ही मेरे साथ मारपीट करने लगा। वह बेटा चाहता था, लेकिन बेटी हुई तो वह और खफा हो गया और छोटी छोटी बात पर दोनों को मारने लगा। सास-ससुर भी उसे ताने देते हैं और अपने पिता से एक लाख रुपए लाने का दबाव डालते हैं। - संतोष, पीड़िता

संतोष मेरे पर झूठे आरोप लगा रही है। बेटा-बेटी से मुझे को एतराज नहीं है। मैंने एक बार भी बेटी संध्या और उसके साथ मारपीट नहीं की। उसके पिता नारायणलाल हमारी शादी तुड़वा कर बेटे जिग्नेश का आटा साटा करवाना चाहते हैं। - वीरेंद्र खींची, पीड़िता का पति

पाली. संध्या के शरीर पर घाव के निशान।

खबरें और भी हैं...