पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • 700 निजी बसों का विरोध, 14 घंटे चक्काजाम, 140 बसों के पहिए थमे, 55 हजार यात्री हुए परेशान, 12 लाख के राजस्व का नुकसान

700 निजी बसों का विरोध, 14 घंटे चक्काजाम, 140 बसों के पहिए थमे, 55 हजार यात्री हुए परेशान, 12 लाख के राजस्व का नुकसान

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हरियाणा परिवहन निगम द्वारा 700 निजी बसों को बेड़े में शामिल किए जाने के विरोध में मंगलवार को हरियाणा रोडवेज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति और हरियाणा रोडवेज वर्कर्स यूनियन ने हड़ताल किया। मंगलवार विरोध के रूप में कर्मचारियों ने सुबह 4 से शाम 6 बजे तक बसों का चक्का जाम रखा। कर्मचारियों ने 140 बसों का संचालन ठप कर दिया। इस कारण करीब 55 हजार यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। इससे करीब 12 लाख रुपए के राजस्व का नुकसान हुअा है। अवैध वाहन वालों ने इस मौके पर जमकर लाभ उठाया। दोगुना किराया वसूला।

हरियाणा रोडवेज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति और हरियाणा रोडवेज वर्कर्स यूनियन के आह्वान पर मंगलवार सुबह चार बजे ही कर्मचारी पानीपत बस स्टैंड पर पहुंच कर धरने पर बैठ गए। प्रधान मुलतान मलिक और अनिल कुण्डू ने कहा कि प्रदेश सरकार युवाओं का रोजगार छीनने का प्रयास कर रही है। मोटर व्हीकल एक्ट संशोधित बिल 2017 और उसी की तर्ज पर हरियाणा सरकार ने किलोमीटर स्कीम के तहत 700 निजी बसों को लगाया जा रहा है। इसको लेकर रोडवेज कर्मचारियों में आक्रोश पनप रहा था। धरने पर बैठे कर्मचारियों ने प्रदेश सरकार और रोडवेज जीएम के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

पानीपत. हरियाणा रोडवेज की प्रदेश स्तरीय हड़ताल के दौरान कर्मचारी अपनी मांगो को लेकर धरने पर बैठे।

आधा दर्जन से ज्यादा संगठन पहुंचे समर्थन में

रोडवेज कर्मचारियों को सर्व कर्मचारी संघ, कर्मचारी महासंघ, सभी सहकारी परिवहन समिति संचालक सहित आधा दर्जन से ज्यादा संगठन समर्थन के लिए पहुंचे। सभी ने एक सुर में कहा कि रोडवेज यूनियन द्वारा उठाई गई मांग पूरी तरह से जायज है। केंद्र और प्रदेश सरकार ठेका प्रथा को प्राथमिकता देने में लगी है। सभी सरकारी विभागों में निजी कर्मचारियों की भर्ती की जा रही है। ऐसे में सभी संगठन एकजुट होकर विरोध करेंगे।

कर्मचारियों की रिपोर्ट तैयार की जा रही है

कर्मचारियों का चक्काजाम करने से रोकने के लिए दो दिन से प्रयास किए गए लेकिन वह अपनी जिद छोड़ने को तैयार नहीं हुए। इस मामले की रिपोर्ट तैयार की जा रही है। - रामकुमार, जीएम परिवहन।

न बिगड़े व्यवस्था इसलिए पुलिस अधिकारी लगाते रहे चक्कर

रात्रि ठहराव की चार बसें सोनीपत बस स्टैंड पर फंसी रोडवेज जीएम ने चक्काजाम शुरू होने से पहले ही 66 बसों को रात्रि ठहराव के लिए निकाल दिया था। ये बसें अल सुबह ही अलवर, अजमेर, हरिद्वार और सिरसा के लिए रवाना हो गई थीं। इनमें से चार बसें सुबह सोनीपत बस स्टैंड पर जाकर फंस गई। वहां कर्मचारियों ने गेट बंद कर दिया था इस कारण वह बाहर नहीं निकल सकीं।

अभी वेतन काटने पर कोई आदेश जारी नहीं किया है। जो कर्मचारी हड़ताल में शामिल थे, उनकी रिपोर्ट मांगी गई है। बुधवार को रोडवेज के बड़े अफसरों के साथ बैठक के बाद सैलरी काटने या न काटने का फैसला लिया जाएगा।\\\' -कृष्णलाल पंवार, परिवहन मंत्री

चक्काजाम से कानून-व्यवस्था न लड़खड़ा जाए इसके लिए एसपी मनबीर सिंह ने बस स्टैंड के अंदर शहर थाना एसएचओ दीपक कुमार की ड्यूटी लगाई थी। बस स्टैंड के बाहर भी फोर्स तैनात कर दिया गया। पुलिस कर्मी जाम न लग जाए इसको लेकर वाहनों को बस स्टैंड के बाहर नहीं रुकने दे रहे थे। सड़क पर भीड़ तक को पुलिस कर्मियों ने नहीं रुकने दिया।

निजी वाहन नहीं हैं सुरक्षित

निजी बसों का सफर सुरक्षित नहीं है। सुबह ही बस स्टैंड पर पहुंच गया था। लेकिन एक भी बस नहीं मिली। अधिकारियों से पूछा कि बस संचालन कब शुरू होगा, लेकिन संतोषजनक जबाव नहीं मिली।\\\'-सूबे सिंह, श्रद्धालु।

नहीं मिल पाई बस

प|ी के साथ जयपुर जाना है लेकिन दिल्ली के लिए भी रोडवेज बस नहीं मिली। चंडीगढ़ से आने वाली बसें भी बंद हैं। ऐसे में खासी परेशानी का सामना करना पड़ा।\\\' - अरविंद, यात्री ।

पानीपत. जीटी रोड बस के इंतजार में खड़े लोग।

रोडवेज कर्मियों की हड़ताल होने से यात्री हुए परेशान

थर्मल| हरियाणा रोडवेज यूनियन कर्मियों ने मांगो के न माने जाने के विरोध में मंगलवार को चक्का जाम रखा। इस कारण आमजनों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं निजी वाहन चालकों ने मनमर्जी का किराया वसूल किया।

किसी को नहीं परवाह

सुबह सनौली खुर्द से ऑटो से पानीपत आया था। लेकिन वापस जाने के लिए वाहन नहीं मिला। रोडवेज अधिकारियों को यात्रियों की परवाह होती तो हड़ताल रोकते, लेकिन एेसा नहीं किया गया।\\\'-अरविंद त्यागी, यात्री।

खबरें और भी हैं...