पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • मंतूराम धोखेबाज मेरी पीठ पर छुरा घोपा: जोगी जोगी मेरे आदरणीय, कुछ भी बोल लें: मंतूराम

मंतूराम धोखेबाज मेरी पीठ पर छुरा घोपा: जोगी जोगी मेरे आदरणीय, कुछ भी बोल लें: मंतूराम

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जोगी कांग्रेस सुप्रीमो अजीत जोगी ने पखांजूर में सभा को संबोधित करते कहा आपके क्षेत्र का पूर्व विधायक मंतूराम पवार से मेरे पारिवारिक संबंध थे। मैने उसे उपचुनाव नहीं लड़ने सलाह दी थी और वह मान भी गया था। बाद में दूसरे लोगों के दबाव में आकर चुनाव लड़ने लगा। फिर पता नहीं किसके दबाव तथा लालच में आकर मैदान भी छोड़ दिया। इस पुरे घटना से मुझे बड़ा दर्द हुआ। मुझे ऐसा लगा जैसे उसने मेरे पीठ में छुरा घोंप दिया है। मैं इसका बदला नहीं लूंगा लेकिन आप उसे वोट नहीं देकर उससे बदला जरूर लें।

पखांजूर में बंग समाज को लुभाने नमोशुद्र वर्ग को एससी जाति का दर्जा दिलाने वादा किया। इसके अलावा किसानों को 2500 रुपए धान समर्थन मूल्य, शिक्षाकर्मियों तथा पंचायत सचिवों का संविलियन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को पूर्ण वेतन तथा रसोइयों और मितानिनों का वेतन दोगुना करने भी वादा किया। संबोधन की शुरुआत बंगला भाषा में करते कहा राष्ट्रीय पार्टियां क्षेत्र के हितों का ध्यान नहीं दे रही हैं। छत्तीसगढ़ के हित के लिए क्षेत्रीय पार्टी का गठन किया है। कांग्रेस सरकार में जब मुख्यमंत्री रहा तब हर फैसले के लिए केंद्र से पूछना पड़ता था। यही हाल भाजपा में भी है। इस चक्कर में प्रदेश की जनता का हित प्रभावित होता है। देश का प्रधानमंत्री लबरा नंबर एक और मुख्यमंत्री लबरा नंबर दो। एक ने सभी के खाते में 15 लाख देने का वादा किया और दूसरे ने 2100 रुपए धान समर्थन मूल्य तथा 300 बोनस देने वादा किया लेकिन पूरा नहीं किया। हमनें पार्टी के वादों का शपथ पत्र बनाया है। यह घोषणा पत्र नहीं संकल्प पत्र नहीं शपथ पत्र है जिसे पूरा नहीं करने पर दो साल जेल हो सकती है। सरकार में आए तो 20 लाख बेरोजगारों को नौकरी, जन्म लेने वाली बच्ची के नाम एक लाख फिक्स डिपोजिट की बात दोहराई। इस अवसर पर लक्ष्मण मंडावी, आनंद सरकार, सियाराम पुड़ो अर्जुन उसेंडी, संतोष दहिया, गौरी शंकर पांडे, सुब्रत डे,मनोरंजन राय, सुनंद विश्वास, समरेश राय थे।

पखांजूर। पखांजूर प्रवास में पहुंचे अजीत जोगी।

कांग्रेस की परेशानी बढ़ी
जोगी के कार्यक्रम को लेकर दोनों पार्टी के पदाधिकारियों में उत्सुकता रही। मंच के आसपास दोनों राजनैतिक दलों के पदाधिकारी भाषण सुनते देखे गए। जोगी कांग्रेस का क्षेत्र में कोई ठोस संगठन नहीं होने के चलते कार्यक्रम में भीड़ की उम्मीद नहीं थी लेकिन बड़ी संख्या में भीड़ पहुंची। भीड़ देख कांग्रेस तथा भाजपा दोनों दलों के नेता परेशान दिखे।

मैं उनकी बातों का बुरा नहीं मानता: पवार
जोगी द्वारा धोखेबाज कहे जाने पर प्रतिक्रिया देते पूर्व विधायक मंतूराम पवार ने कहा कि अजीत जोगी मेरे आदरणीय हैं, वे कुछ भी बोल सकते हैं, मैं उनकी बातों का बुरा नहीं मानता। ये भी कहा कि पहले मैंने कांग्रेस छोड़ी व भाजपा से जुड़ा। उसके कुछ समय बाद जोगी जी ने भी कांग्रेस छोड़ नई पार्टी बना ली।

आंबा कार्यकर्ताओं और रसोइया संघ ने की मुलाकात

बड़गांव। जोगी की सभा के बाद लंबे समय से हड़ताल पर बैठी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और रसोइया संघ कार्यकर्ताओं ने धरनास्थल पहुंच जोगी से मुलाकात की। कार्यकर्ताओं ने जोगी का तिलक लगा अपनी मांग पूरी करने का निवेदन किया। जोगी ने सरकार बनने पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को 18 हजार व रसोइयों को उनकी मांग के हिसाब से वेतन देने की बात कही।

खबरें और भी हैं...