पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • राहगीरों से दुकानदारों तक हर कोई परेशान, कई लोग हादसे में गंवा चुके हैं जान लेकिन प्रशासन लापरवाह

राहगीरों से दुकानदारों तक हर कोई परेशान, कई लोग हादसे में गंवा चुके हैं जान लेकिन प्रशासन लापरवाह

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आए दिन पठानकोट शहर की सड़कें राहगीरों के लिए काल साबित हो रही है। बीते दिनों सड़क हादसों में हुई मौतों के लिए सड़क पर पड़े गड्‌ढे ही जिम्मेदार हैं। इन दिनों बारिश से इन गड्‌ढों पर पानी भर जाने से सड़कें तालाब बनीं हुई हैं। इन सड़कों से गुजरने वाले वाहन, राहगीर और दुकानदारों के लिए ये गड्‌ढे परेशानी की सबब बने हुए हैं।

साहब न कोई हमारी सुनता है न ही कोई गड्ढे भरता है। यही कारण है कि जहां प्रतिदिन लोग दुर्घटनाओं का शिकार हो रहे हैं लेकिन इन गड्ढों को भरने के लिए कोई भी विभाग आगे नहीं आ रहा है। यह कहना है भड़ोली कलां निवासी तरसेम लाल का…। उन्होंने कहा कि टैंक चौक से लेकर भड़ोली कलां स्थित केंद्रीय विद्यालय के बाहर सड़क पर इतने गड्ढे पड़ चुके हैं कि ग्रामीण तो क्या इस सड़क से गुजरने वाले कई लोग दुर्घटनाओं का शिकार हो चुके हैं। लेकिन अफसोस कि बार-बार बताने के बावजूद इस सड़क के गड्ढों को भरने के लिए विभाग आगे कदम नहीं बढ़ाता है।

दुकानदार बोले- गड्‌ढों पर पैच ही करवा दे प्रशासन

भड़ोली कलां की सड़क पर दुर्घटनाओं का कारण बन रहा गड्ढा

हमारी आंखों के सामने हुए कई हादसे : दुकानदार

दुकानदार विजय कुमार ने कहा कि इस सड़क पर बाबा पीर की दरगाह के आगे हर रोज हादसे हो रहे हैं। अभी कुछ दिन पहले एक गुज्जर मोटर साइकिल पर सवार होकर दूध लेकर शहर की ओर जा रहा था कि उसका मोटरसाइकिल इन गड्ढों के वजह से स्लिप कर गया, जिससे वह घायल हो गया।

रुई दास बोले यहां अक्सर दुर्घटनाएं होती हैं, लेकिन पैच तक नहीं लगाए जाते। कई बार तो हमारी आंखों के सामने हादसे हुए हैं।

सिंबल चौक के दुकानदार कमलजीत सिंह ने कहा कि सिंबल चौक से लेकर रेलवे क्रासिंग तक सड़क की हालत इतनी खस्ता है कि क्या बताएं रेलवे क्रासिंग के पास तो इतने गड्ढे पड़ चुके है कि वहां पर जब कोई लग्जरी गाड़ी गुजरती है कि उनके बंपर टूटने का डर रहता है। कई बार तो लम्बा जाम भी लग जाता है। सड़कों पर पड़े गड्ढों पर पैच वर्क करवाया जाए।

मामून रोड पर पड़े गड्ढे में गिरकर घायल हुई मां-बेटी

मामून के संजीत ने कहा कि रविवार को मामून तालाब के पास सड़क पर पड़े गड्ढों के कारण ही करोली निवासी प्रेम चंद और शीला देवी की मौत हो गई। परंतु इसके बावजूद अभी निगम नहीं चेता। डलहौजी रोड पर रहने वाली रिंपी गोयल ने बताया कि उनकी मामून में दुकान है वह स्कूटी से बेटी तनवी गोयल के साथ दुकान पर जा रही थी कि वह मामून रोड पर पड़े गड्ढे में गिरकर घायल हो गई।

खबरें और भी हैं...