पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • ठेके पर रखे सफाई कर्मियों को तरक्की देने के निर्देश

ठेके पर रखे सफाई कर्मियों को तरक्की देने के निर्देश

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सामाजिक न्याय व रोजगार मंत्रालय के राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग के मेंबर स्वामी सदानंद महाराज ने कहा कि हरेक विभाग में ठेके पर रखे कर्मचारी को एक्ट के अनुसार तरक्की और सुविधाएं दी जाएं। स्वामी सदानंद पठानकोट आए थे।

उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों और सफाई सेवक यूनियनों के साथ मीटिंग की। मीटिंग में उन्होंने नगर निगम पठानकोट, नगर कौंसिल सुजानपुर और नगर पंचायत नरोट जैमल सिंह के अधिकारियों को ठेके पर रखे सफाई कर्मचारियों को सर्विस के अनुसार तरक्की देने और उनका रजिस्ट्रेशन कराने ही हिदायत दी। साथ ही हर तीसरे महीने यूनियनों के नुमाइंदों से बैठक करने को कहा।

सफाई कर्मचारी आयोग के मेंबर स्वामी सदानंद महाराज का स्वागत करते एडीसी जनरल व निगम कमिश्नर कुलवंत सिंह।

निगम की यूनियनों ने सौंपा मांग पत्र | नगर निगम की स्वच्छ भारत वाटर सप्लाई यूनियन के प्रधान धर्मेंद्र सिंह, स्वच्छ भारत सफ़ाई मजदूर यूनियन के प्रधान जतिंद्र सिंह और अखिल भारतीय सफ़ाई मजदूर यूनियन के प्रधान रमेश कुमार ने स्वामी सदानंद का स्वागत किया और मांगपत्र सौंपा। स्वामी सदानंद ने कहा कि सफ़ाई कर्मचारियों का बनता हक दिया जाएगा। सरकार को लिखित तौर पर उनकी मांगों को भेज कर अवगत कराया जाएगा।

नगर निगम के 50 और सुजानपुर कौंसिल के 15 वार्डों में सफाई कर्मचारियों के लिए चेंजिंग रूम बनाने को भी कहा

स्वामी सदानंद महाराज ने निगम के 50 और सुजानपुर कौंसिल के 15 वार्डों में हरेक वार्ड में सफाई कर्मचारी के लिए एक चेंजिंग रूम बनाने तथा उसमें शौचालय, पानी और बिजली की सुविधा कराने साथ के ही काम के दौरान अगर आराम करना चाहे तो उसकी सुविधाओं मुहैया कराने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि शहर में सफ़ाई के लिए लगाए ऑटो, छोटे हाथी में कूड़ा उठाने के लिए एक-एक कर्मचारी की ड्यूटी लगाई जाए। निगम और कौंसिल में कोई कर्मचारी चालक के पद की सेवाएं दे रहा है तो उसे स्केल भी चालक वाला दिया जाना चाहिए। सीवर कर्मचारियों को काम के दौरान पहनने के लिए जूते, मास्क व अन्य समान उपलब्ध करवाया जाए। शहर में सार्वजनिक स्थलों पर शौचालय बनाने के लिए टैंडर लगाने और साफ़ सफ़ाई के लिए भी कर्मचारी नियुक्त करने की हिदायत दी। उन्होंने पुलिस और सिविल अस्पताल को भी अपने क्षेत्र में काम करने वाले कच्चे मुलाजिमों का रजिस्ट्रेशन श्रम विभाग में जरूर कराने और एक्ट के अनुसार तरक्की देना जरूरी बनाने की हिदायत दी। उन्होंने पठानकोट निगम के अधिकारियों को संबंधित यूनियनों के नुमाइंदों के साथ हरेक तीन महीने बाद एक मीटिंग कर उनकी मांगों पर चर्चा करने को कहा। यहां एडीसी जनरल व निगम कमिश्नर कुलवंत सिंह, एसडीएम पठानकोट डा. अमित महाजन, सहायक लोक संपर्क अफसर राम लुभाया, जिला भलाई अफसर सुखविंद्र सिंह मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...