पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • पावटा सीएचसी में रोजाना आ रहे 500 मरीज

पावटा सीएचसी में रोजाना आ रहे 500 मरीज

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कस्बे में दिनोदिन मौसमी बीमारियों का प्रकोप बढ़ता जा रहा है जिसकी वजह से कस्बे के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का आउटडोर प्रतिदिन करीब 500 पार पहुंच गया। यहां पर 11 में से महज 2 ही चिकित्सक कार्यरत है। ऐसे में मरीजों को समुचित इलाज नहीं मिल पा रहा है।

पूर्व वार्ड पंच रामकुंवार मीणा व कांग्रेस नगराध्यक्ष कैलाश गर्ग ने बताया कि 30 हजार की आबादी वाले कस्बे सहित आसपास क्षेत्र की स्वास्थ्य सेवाओं की रखवाली करने वाले स्वास्थ्य केन्द्र की स्वयं की हालात दयनीय है।

राजमार्ग पर स्थित होने से आए दिन होने वाली दुर्घटनाओं की भी देखभाल की जिम्मेदारी इसी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की है। नाम के अनुसार सेवाएं नहीं दे पा रहा स्वास्थ्य केन्द्र चिकित्सकों की कमी के कारण असहाय है। राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सा प्रभारी डॉ.देवेन्द्र शर्मा ने बताया कि सरकार ने हाल ही अस्पताल को 30 बेड से बढ़ा कर 50 बेड कर दिया है। सरकार ने हाल ही बजट में कस्बे को उपतहसील से तहसील किए जाने की घोषणा कर दी। सब कुछ केवल कागजी कार्यवाही ही साबित हो रहा है। मौसमी बीमारियों को लेकर बदल रहे मौसम के साथ मरीजों की संख्या का आंकडा 500 पार कर गया। केवल दो में से एक डॉक्टर अस्पताल में नियमित सेवाएं देकर मरीजों को सम्भाल रहे हैं। एक अस्पताल प्रभारी प्रशासनिक जिम्मेदारियों के कारण मरीजों को समय नहीं दे पाते। सरकार द्वारा मांगी जाने वाली रोजाना की रिपोर्ट, मीटिंग एवं सरकारी एविडेेश से समय मिले तो मरीजों के साथ न्याय हो।

सरकार द्वारा पावटा सीएचसी में 11 डॉक्टरों की पोस्ट स्वीकृत की हुई है। मात्र दो ही डॉक्टर जैसे तैसे यहां की स्वास्थ्य सेवाएं चलाए हुए हैं, जिसमें से एक अधिंकाश विभागीय कार्य व मीटिंग में व्यस्त रहते है इसलिए केवल एक चिकित्सक के भरोसे ही मरीजों को देखा जा रहा है। इससे मरीजों सहित ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। विधायक डॉ.फूलचंद्र भिंडा ने कहा कि चिकित्सा मंत्री से मिलकर रिक्त पदों पर चिकित्सक लगवाए जाएंगे।

पावटा. कस्बे के राजकीय अस्पताल में डॉक्टर को दिखाने के लिए खड़े मरीज।

खबरें और भी हैं...