पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • मॉक ड्रिल : हॉली डे एक्सप्रेस बेपटरी, एनडीआरए अजमेर की 47 सदस्यीय टीम पहुंची

मॉक ड्रिल : हॉली डे एक्सप्रेस बेपटरी, एनडीआरए अजमेर की 47 सदस्यीय टीम पहुंची

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कस्बे के रेलवे स्टेशन स्थित कैरिज शेड में शुक्रवार को जयपुर-उदयपुर हॉली डे ट्रेन का दुर्घटना का शिकार होकर बेपटरी होने का सजीव ढंग से काल्पनिक दृश्य दिखाया गया। इसे मॉक ड्रिल के नाम से बताया गया। इस डेमो में दृश्य के दौरान दुर्घटना की जानकारी मिलते ही जयपुर मंडल रेल प्रबंधक सौम्या माथुर, डीएसओ तरुण दीक्षित, एनडीआरए अजमेर व राजस्थान पुलिस, जीआरपी रेलवे सुरक्षा बल, रेलवे चिकित्सा विभाग की टीम, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फुलेरा की टीम सहित रेलवे के अन्य विभागों के सैकडों कर्मचारी घटना स्थल पर पहुंचकर राहत कार्य में जुट जाने का सजीव दृश्य दिखाया गया। डेमो में दिखाई गई यह कोई वास्तवित ट्रेन दुर्घटना नहीं थी, लेकिन भविष्य में घटित होने वाली रेल दुर्घटनाओं को देखते हुए एक अभ्यास कार्य दिखाया गया था।

हादसे के सभी नजारे वास्तविक नजर आए
फुलेरा. ट्रेन दुर्घटना के डेमों में राहत कार्य में जुटी एनडीआरए टीम।

घायलों को तुरंत अस्पताल पहुंचाया
एनडीआरए अजमेर 06 बटालियन के डिप्टी कमांडेड अमर सिंह चौहान ने बताया कि हमारी टीम द्वारा आपदा प्रबंधन के तहत जैसे रेल दुर्घटना, आगजनी, कुएं में गिर जाना, बोरिंग में गिर जाना सहित बहुत सी दुर्घटनाअों में जिम्मेदारी पूर्वक कार्य किया जाता है। आज भी हमारी टीम के अभ्यास कार्य में एनडीआरए के 47 सदस्यीय टीम मौजूद थी। टीम ने 2 पैसेंजर ट्रेन के डिब्बों को दुर्घटनाग्रस्त बताया जिसमें दुर्घटना के बाद 105 यात्री इन डिब्बों में फंस जाते है। इनमें 16 यात्रियों की स्थिति गंभीर व 20 यात्रियों के मामूली चोटें बताई गई। घायलाेें को तुरंत प्रभाव से कस्बे के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व रेलवे अस्पताल में पहुंचाने का दृश्य भी दिखाया गया।

रेल कर्मचारियों को प्रशिक्षण देना उद्देश्य

आए दिन हो रही रेल दुर्घटनाओं को देखते हुए यहां एक काल्पनिक घटना को अंजाम देकर राहत कार्यों के लिए समय-समय पर संबंधित रेल कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जाता है। इस मॉक ड्रिल से कम्पलीट ऑपरेशन होने के बाद आने वाली कमियों में सुधार करवाना ही हमारा प्रमुख ध्येय होता है। हमें एनडीआरए टीम के साथ रेल कर्मचारियों को प्रशिक्षित करना भी हमारा लक्ष्य होता है। इस कार्य में हमें समय का पूरा ध्यान रखना पड़ता है। कही दुर्घटना के समय ज्यादा समय तो नहीं लग रहा है। सौम्या माथुर, मंडल रेल प्रबंधक

खबरें और भी हैं...