पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • अमानक उपज खुली नीलामी में बेच सकेंगे किसान, लिया जाएगा सैंपल भी

अमानक उपज खुली नीलामी में बेच सकेंगे किसान, लिया जाएगा सैंपल भी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
समर्थन मूल्य खरीदी के दौरान नॉन एफएक्यू और अपंजीकृत किसान का गेहूं, चना एवं सरसों किसान खुद की सहमति पर खुली नीलामी में बेच सकेंगे। समर्थन मूल्य से कम पर उपज विक्रय होने की स्थिति में संबंधित किसान का पंचनामा तैयार होगा। किसान की उपज का सैंपल भी लिया जाएगा। पूरा ब्यौरा कृषकवार संधारित होगा। गेहूं, चना नॉन एफएक्यू या अपंजीकृत किसान के लाने पर परेशान ना हो इसके लिए व्यवस्था लागू की। कृषि उपज मंडी सचिव नरेश कुमार परमार ने शुक्रवार को व्यापारियों की बैठक लेकर उन्हें निर्देशों से अवगत करा दिया है। आगामी दिनों में व्यापारी भी बोली लगा सकेंगे। अव्यवस्था होने पर मंडी प्रशासन खुली नीलामी बंद भी करा सकता है। मंडी प्रशासन और स्थानीय प्रशासन खरीदी के दौरान निगरानी रखेगा।

एसएमएस के आधार पर ही ट्रैक्टर-ट्रॉलियों को मंडी प्रांगण में प्रवेश दिया जाएगा। समर्थन मूल्य 1735 रुपए प्रति क्विंटल पर गेहूं खरीदी सहकारी समितियां कर रहीं हैं। 10 अप्रैल से समर्थन मूल्य पर चना खरीदी भी होना है। कौन सी संस्थाएं खरीदी करेंगी। इसे लेकर फिलहाल स्थिति साफ नहीं है। चना बेचने के लिए 2000 किसानों ने पंजीयन करा लिया है। जबकि गेहूं बेचने के लिए 9600 किसानों के पंजीयन हैं।

मंडी प्रशासन खुली नीलामी करा सकता है बंद

पिपरिया। गेहूं परिवहन व्यवस्था का जायजा लेते मंडी सचिव नरेश कुमार परमार।

मंडी प्रांगण में जमा हो गया गेहूं, नीलामी रही स्थगित
कृषि मंडी स्थित समर्थन मूल्य गेहूं खरीदी केंद्रों देवगांव और तरौन कलां केंद्र पर शुक्रवार को दिन भर नीलामी नहींं हो सकी। क्योंकि मंडी परिसर में करीब 10000 क्विंटल गेहूं रखा है। उठाव ना होने से परिसर में जगह नहीं बची। इसलिए नीलामी नहीं सकी। शाम 4 बजे से नीलामी शुरू हुई। गेहूं खरीदी शुरू हुए तीन दिन हो चुके हैं। अभी से परिवहन को लेकर परेशानी हो रही है। ट्रैक्टर-ट्रॉली खाली करके गेहूं रखें कहां इसलिए नीलामी देर से शुरू की गई। गेहूं खरीदी की शुरुआत में ही परिवहन और भंडारण स्थिति खराब है। ऐसे में आने वाले दिनों में मंडी और ग्रामीण केंद्रों पर स्थिति खराब हो सकती है। शुक्रवार को गेहूं से लदीं करीब 300 ट्रैक्टर-ट्रॉली पहुंची। सभी मंडी परिसर के बाहर खड़े रहे। शनिवार आैर रविवार को परिहवन और भंडारण कराया जाएगा। इसके बाद एसएमएस सिस्टम से सोमवार से गेहूं की खरीदी फिर शुरु होगी। 8 केंद्रों पर 1 लाख क्विंटल गेहूं खरीदी हो चुकी है। परिवहन 50 फीसदी के आसपास है। गेहूं भंडारण के लिए 26 निजी वेयर हाउस अनुबंधित किए गए हैं। जबकि 8 सरकारी वेयर हाउस हैं। इनमें 1.60 लाख मैट्रिक टन भंडारण क्षमता है।

शनिवार और रविवार को अवकाश, सोमवार से फिर गेहूं खरीदेंगे
शनिवार और रविवार को समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी का अवकाश रहेगा। ताकि गेहूं परिवहन होकर वेयर हाउसों में भंडारण हो सके। बताया जाता है कि गेहूं बारियों में पैक होने में भी समय लग रहा है। गेहूं की आवक एकदम बढ़ गई है।

नियमों से अवगत करा दिया गया है।
व्यापारियों को नियमों से अवगत करा दिया है। नियमों के तहत व्यापारी खरीदी कर सकेंगे। परिवहन में तेजी के लिए संबंधित सहकारी संस्थाओं के प्रबंधकों को निर्देशित किया है। एसएमएस सिस्टम से ही ट्रॉलियां आएंगी। चना, सरसों की खरीदी के लिए भी इंतजाम हो रहे हैं। मंडी में निगरानी बढ़ा दी है। नरेश कुमार परमार, कृषि मंडी सचिव, पिपरिया

खबरें और भी हैं...