पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raigarh
  • रास्ते में मितानिन एवं एएनएम ने बचाई महिला और शिशु की जान

रास्ते में मितानिन एवं एएनएम ने बचाई महिला और शिशु की जान

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में डॉक्टरों की लापरवाही आए दिन देखने को मिलते ही रहते हैं। जिसका गंभीर परिणाम गरीब लोगों को भुगतना पड़ रहा है।

ऐसा ही एक मामला रविवार की रात देखने को मिला। जब खर्री निवासी खगेश्वर नेताम की प|ी गीता बाई को अचानक प्रसव पीड़ा हुई तो 108 व महतारी वाहन के लिए की मांग की गई, जिस पर सारंगढ़ की सरकारी वाहन खराब होना बताया गया। इसके बाद नजदीक की सरसीवां से संजीवनी वाहन भेजी गई और गर्भवती को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाया गया। यहां भी उसकी समस्या कम नहीं हुई। यहां डॉक्टर ने बच्चा को बड़ा बताकर नार्मल डिलीवरी नहीं होना बताकर रिफर कर दिया गया। आनन फानन में परिजनों ने निजी वाहन से रायगढ़ जाने के लिए निकल पड़े। 8 किलोमीटर की दूरी तय करते ही गोमर्डा के पास महिला की प्रसव पीड़ा तेज हो गई। गनीमत से गांव की मितानिन एवं एएनएम द्वारा नार्मल डिलीवरी कराया गया और बाद में वापस सारंगढ़ लाया गया और अस्पातल में भर्ती किया गया।

खबरें और भी हैं...