पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शहर के सिविल लाइन म

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
माइग्रेन से निजात पाने खुद शुरू किया योग, 3 साल में लगभग 5 सौ लोगों को किया रोग मुक्त, 13 साल में 15 हजार से ज्यादा को दिया योग का निशुल्क प्रशिक्षण

शहर के सिविल लाइन में रहने वाली शहर की इस पहली महिला योग शिक्षिका ने खुद के जीवन में योग से आए बदलाव को जांचने के बाद लोगों को जोड़ना शुरू किया। क्योंकि 15 साल की उम्र से उन्हें बीमारियों से होने वाली तकलीफ से राहत पाने दवाएं खानी पड़ रही थी। इसके बाद उन्होंने टीवी पर योग के प्रोग्राम देखकर योग सीखा। इसकी बारिकियों को जानने के लिए प्रशिक्षण भी लिया। इससे जब उनको शारीरिक दिक्कतों से राहत मिली और दवाओं से हमेशा के लिए छुटकारा मिला, तो उन्होंने 100 लोगों को योग सिखाने का संकल्प लिया। इसको पूरा करने दो लोगों से योग क्लास शुरू की।

बीमारी दूर हो रही, इसलिए कर रहे अवेयर

मधु बहादुर सिंह, योग शिक्षिका रायपुर

15 साल की उम्र में ही मुझे माइग्रेन, पायरिया और बार-बार चस्मे का नंबर बदलने की समस्या थी, जिसे योग से दूर किया। अबतक योग सिखाकर 15 हजार से ज्यादा लोगों को दवाओं के नियमित उपयोग से बचाया है।

इन बीमारियों से राहत

योग सिखने आने वाले लोगों में ज्यादातर ऐसे पीडित शामिल होते हैं, जिन्हें माइग्रेन, पायरिया, ओवरवेट, चस्में का बार-बार नंबर बदलने, घुटने और कमर में दर्द जैसी बीमारियां थी। इस वजह से दवाओं के भरोसे ही रहती थीं। ऐसे 100 से ज्यादा लोगों को उन्होंने संकल्प लेने के बाद योग सिखाया।
योग के ये प्रमुख आसन
योग शिक्षिका लोगों को स्वस्तिकासन, गोमुखासन, गोरक्षासन, शंखासन, योगमुद्रासन, अनुलोम, अर्ध्यमत्स्येन्द्रासन, विलोम, सर्वांगासन, प्राणायाम, भुजंगासन जैसे आसनों का अभ्यास कराती है। योग के इन आसनों से मिलने वाले फायदे के बारे में भी बताती हैं। आसनों सिखाने के बाद हर आसन के फायदे व ठीक होने वाली बीमारियों के बारे में जानकारी देती है।

यहां सिखा रहीं योग

योग शिक्षिका का सर्टिफिकेट मिलने के बाद अब वे शहर के श्याम नगर गुरूद्वारा, मोवा, दुबे कालोनी, दलदल सिवनी, शंकर नगर, अवंति विहार में 12 से ज्यादा जगह योग क्लास का संचालन कर रही हैं। इनके पास आंख में लकवा, नाक से पानी निकलने, सिर दर्द की समस्या से पीडित 1920 लोग योग सीखने आते हैं।
खबरें और भी हैं...