पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • शहर के 6 शेल्टर होम से ढाई माह में 16 नाबालिग कहां गुम, अब बनी जांच टीम

शहर के 6 शेल्टर होम से ढाई माह में 16 नाबालिग कहां गुम, अब बनी जांच टीम

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
देवेंद्रनगर शेल्टर होम से तीन नाबालिग बच्चियों के गायब होने के बाद हुए खुलासे ने प्रशासनिक अमले की नींद उड़ा दी है। देवेंद्रनगर से बच्चियों के गायब होने की पहली घटना नहीं है। पिछले ढाई महीने में शहर के अलग-अलग सेंटर से 16 नाबालिग लड़के-लड़कियां गायब हो चुके हैं, लेकिन अब तक एक भी क्लू नहीं मिला है। देवेंद्रनगर शेल्टर होम की जांच के दौरान नए आंकड़े सामने आने के बाद ही प्रशासन हरकत में आया। मंगलवार की शाम आला अफसरों की अापात बैठक बुलाकर अब एक-एक शेल्टर होम में जाकर जांच करने का फैसला किया गया।

पुलिस और प्रशासनिक अफसरों की टीम बुधवार से एक-एक शेल्टर होम में जाकर वहां की जांच करेगी। ये पता लगाया जाएगा कि वहां कितने लड़के-लड़कियां थे और उनके गायब होने का सिलसिला कब से शुरू हुआ है। गायब होने वाले लड़के-लड़कियां कहां के रहने वाले हैं। ये जानकारी भी ली जाएगी। अफसरों को सबसे ज्यादा इस बात ने चौंकाया कि अब तक जितने भी नाबालिग गायब हुए हैं, उनमें किसी का भी कोई सुराग नहीं मिला है, जबकि उनके गायब होने के बाद शहर के अलग-अलग थानों में अपहरण का केस दर्ज कराए गए हैं। उनकी जांच कहां अटकी? इस बारे में पुलिस अधिकारी साफ तौर पर कुछ नहीं बोल रहे हैं। अफसरों का कहना है नाबालिगों की तलाश की जा रही है। यही वजह है कि शेल्टर होम की जांच के दौरान प्रशासनिक अमले के साथ पुलिस की टीम भी रहेगी।

तलाश तेज, जांजगीर-चांपा में पुलिस की छापेमारी

देवेंद्र नगर शेल्टर होम से गायब दो नाबालिगों की तलाश पुलिस ने तेज कर दी है। क्राइम ब्रांच की मदद भी ली जा रही है। बच्चियों की तलाश में पुलिस की टीम तेलीबांधा और चांपा गई है। वहां संभावित ठिकानों पर छापेमारी भी की गई। तेलीबांधा में एक नाबालिग का घर है। उसके परिजनों से पूछताछ की गई। मंगलवार देर रात पुलिस को शेल्टर होम के आस-पास के सीसीटीवी कैमरे में कुछ लोग मंडराते मिले हैं। वे शाम से ही सेंटर के आस-पास थे। उनके फुटेज निकलवाए जा रहे हैं। उन्हें संदिग्ध मानकर उनकी तलाश की जाएगी। पुलिस ने दोनों नाबालिगों की तस्वीरें सभी थानों को भेज दी है। रेलवे पुलिस को लड़की की तस्वीर दी है।

लगातार गायब होते रहे, किसी ने नहीं लिया संज्ञान

शेल्टर होम से लगातार गायब हो रहे लड़के-लड़कियों के मामले को अब तक किसी ने संज्ञान में नहीं लिया है। अब तक बाल आयोग या जिला प्रशासन की टीम जांच करने नहीं पहुंची है जबकि सभी जगह बड़ी संख्या में लड़के-लड़की रह रहे है। देवेंद्र नगर के शेल्टर होम में अब भी वहां दस लड़कियां रहती हैं। वहां उनकी सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं किए गए। गेट पर सुरक्षा गार्ड तक नहीं रखा गया है।

बच्चों को कैसे रखा जा रहा? इसकी भी जांच

प्रशासनिक अफसरों के अनुसार निरीक्षण के दौरान ये भी देखा जाएगा कि बच्चों को किस तरह की सुविधा दी जा रही है। उनके भोजन व अन्य जरूरतें किस तरह से पूरी की जा रही है। शेल्टर होम के संचालकों केा किस शर्त पर अनुबंधित किया गया है? वे उन मापदंडों का पालन कर रहे हैं या नहीं।

खबरें और भी हैं...