पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • अब बनेगी 25 साल से मालिकाना हक में फंसी 300 मीटर सड़क

अब बनेगी 25 साल से मालिकाना हक में फंसी 300 मीटर सड़क

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुजारी पार्क से टैगोर नगर चौक की ओर जाने वाली 300 मीटर की कच्ची सड़क 25 साल तक मालिकाना हक की खींचतान के बाद अब पक्की बनाई जाएगी। इस विवादित सड़क के लिए नगर निगम ने अब जमीन मालिकों की सहमति ले ली है। मेयर प्रमोद दुबे ने बताया कि सड़क का भूमिपूजन कर दिया गया है और जल्द ही इसे बनाने का काम शुरू हो जाएगा। इस सड़क से अब रोजाना करीब 10 हजार लोग गुजर रहे हैं, जिन्हें अब इस कच्चे और खतरनाक हिस्से से नहीं गुजरना होगा।

करीब एक किलोमीटर की इस सड़क का यह पैच तब से विवाद में था, जब से रायपुर विकास प्राधिकरण (आरडीए) ने शैलेंद्र नगर और टैगोर नगर जैसी कालोनियां डेवलप की थीं। इन कालोनियों में बसाहट 1995 के बाद से घनी होने लगी थी। यहां से बैरनबाजार होते हुए घने शहर की कनेक्टिविटी तो थी, लेकिन टिकरापारा की ओर जाने वालों का प्रमुख रास्ता यही था। सरकारी एजेंसियों ने इस पर तभी रोड बनाने के प्रयास शुरू किए थे, लेकिन पुजारी परिवार ने दावा कर दिया था कि यह जमीन उनकी है। इस वजह से यह मामला तब से उलझा था। निगम ने यह पूरी सड़क बनाने के लिए करीब तीन करोड़ रुपए का बजट भी पास कर लिया था। करीब 700 मीटर की सड़क बन भी चुकी थी, लेकिन मामला हाईकोर्ट चला गया और मामला उलझ गया।

नगर निगम और पुजारी परिवार के बीच सड़क के इस हिस्से के लिए मेयर ने बनाई सहमति और भूमिपूजन

सड़क क्यों महत्वपूर्ण

शैलेंद्रनगर, टैगोरनगर से टिकरापारा जाने का अकेला शार्टकट।

क्रिश्चियन ग्रेव यार्ड, पुजारी पार्क, फोरेंसिक लैब, एमएलए रेस्ट हाउस, शिक्षा परिसर और राज्य वित्त आयोग के दफ्तर का मार्ग।

मेयर ने शुरू की बातचीत, धरने की चेतावनी दी, फिर बनी बात

निगम और परिवार के बीच सड़क को लेकर कई बार समझौते की बात चली। पिछले दिनों महापौर प्रमोद दुबे, पार्षद निशा देवेंद्र यादव और शैलेंद्र नगर तथा आसपास के लोगों के साथ सड़क को लेकर फिर चर्चा करने की कोशिश की। महापौर ने कहा था कि सड़क नहीं बनने पर लोगों के साथ यहां धरना दिया जाएगा। परिवार के लोगों के साथ चर्चा के बाद सड़क बनने पर सहमति बन पाई। महापौर प्रमोद दुबे ने बताया कि इस जमीन से संबंधित पुजारी परिवार के राजेश पुजारी से चर्चा करने के बाद रोड बनाने के लिए भूमिपूजन कर दिया गया है।

दैनिक भास्कर ने उठाया था मुद्दा : जमीन के मालिकाना हक के विवाद में बरसों से नहीं बन पाई इस सड़क का मुद्दा दैनिक भास्कर ने उठाया था। नगर निगम, रायपुर विकास प्राधिकरण और जमीन मालिक के बीच वर्षों से चल रहे विवाद को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। बयान में महापौर ने सड़क को लेकर धरने की चेतावनी दी थी। इलाज के सिलसिले में रायपुर से बाहर रहे राजेश पुजारी के लौटने के बाद सड़क को लेकर सहमति बन पाई।

खबरें और भी हैं...