पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • भारत में अलौह धातुओं के विकास पर हुई चर्चा

भारत में अलौह धातुओं के विकास पर हुई चर्चा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रांची। नाॅनफेरस मिनिरल एंड मेटल्स पर आयोजित दो दिवसीय 22वें अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के अंतिम दिन राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय अलौह क्षेत्र पर तकनीकी आलेख प्रस्तुत किए गए। वक्ताओं ने कहा कि झारखंड अलौह खनिजों में समृद्ध और परिपूर्ण है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत धातुओं की खपत में बहुत पीछे है, इसलिए देश में इनका उपयोग सुधारने के लिए कई उपाय भी सुझाए गए। भारत में अलौह धातुओं के उद्योग के विकास की जरूरतों के बारे में जोर दिया गया। इसी तरह झारखंड के विकास के लिए धातुओं के शोषण की संभावनाओं पर जोर दिया गया। डाउनस्ट्रीम प्रसंस्करण समेत अलौह खनन, एल्यूमीनियम, तांबा, मैग्नीशियम, टाइटेनियम से संबंधित विषयों पर भी आलेख प्रस्तुत किए गए। सम्मेलन में पीके सारंगी, बिभू मिश्रा, विश्वजीत बासु डॉ. अनुपम अग्निहोत्री, अतुल भट्ट, अबू बकर सिद्दीकी, टीके चांद, संतोष कुमार शर्मा ने भी बातें रखीं।

खबरें और भी हैं...