पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • दारा शिकोह और औरंगजेब की भिड़ंत पर फिल्म बनाएंगे करण जौहर

दारा शिकोह और औरंगजेब की भिड़ंत पर फिल्म बनाएंगे करण जौहर

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बहन की बर्थडे पार्टी में दीपिका को साथ लेकर पहुंचे रणवीर

रणवीर सिंह की बहन रितिका की बर्थडे पार्टी की कुछ तस्वीरें सामने आई हैं। इस पार्टी में रितिका के कुछ खास दोस्त आैर परिवार के लोग नजर आ रहे हैं। खास बात यह है कि पार्टी में रणवीर गर्लफ्रेंड दीपिका को साथ लेकर पहुंचे थे। दोनों ने यहां जमकर मस्ती की। इस पार्टी के कुछ वीडियोज भी वायरल हैं, जिनमें रणवीर डांस कर रहे हैं। वे गाने भी गा रहे हैं। पार्टी में रणवीर ने सबको खूब एंटरटेन किया।

अमित कर्ण | मुंबई

मु गलों की सल्तनत बॉलीवुड को रिझा रही है। कुछ साल पहले आशुतोष गोवारिकर ने ‘जोधा अकबर’ बनाई थी। पिछले साल संजय लीला भंसाली ने अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मावती पर ‘पद्मावत’ बनाई। दोनों ही फिल्में सफल रहीं। अब कहा जा रहा है कि करण जौहर दारा शिकोह और औरंगजेब की भिड़ंत पर फिल्म बनाएंगे। औरंगजेब के रोल के लिए रणवीर सिंह का नाम सामने आ रहा है आैर दारा शिकोह के लिए रणबीर कपूर का।

यह दो हीरो और तीन हीरोइनों की कहानी होगी। हीरोइन के लिए फ्रंट पर आलिया भट्ट और करीना कपूर खान को साइन कर लिया गया है। तीसरी हीरोइन के तौर पर किसी नए चेहरे को कास्ट किया जाएगा। यह सब जानकारी फिल्म से जुड़े लोगों ने दी है। धर्मा प्रोडक्शंस और करण जौहर की तरफ से इसे लेकर ऑफिशियल अनांउसमेंट होना अभी बाकी है। सूत्रों ने यह भी बताया है कि फिल्म का डायरेक्शन करण जौहर खुद करेंगे। यह धर्मा प्रोडक्शंस के इतिहास की सबसे महंगी फिल्म होगी। खिलजी के बाद रणवीर सिंह एक बार फिर निगेटिव रोल में दिखेंगे।

ट्रेड पंडितों के मुताबिक, ‘पद्मावत’ में खिलजी के निगेटिव रोल ने करण जौहर को औरंगजेब के रोल में रणवीर सिंह को कास्ट करने के लिए प्रेरित किया है। दारा शिकोह के लिए उनकी नजर में रणबीर कपूर थे। हालांकि अभी तक रणबीर की ओर से कोई कन्फर्मेशन नहीं आया है। इस पर करण जौहर के प्रवक्ता से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जो भी फाइनल होगा, वह अनाउंस कर दिया जाएगा।

दारा शिकोह के बारे में...

दारा शिकोह का जो जिक्र इतिहास में है, वही फिल्म में भी होगा। वह यह कि वे शाहजहां के लख्तेजिगर (बेटे) थे। शाहजहां, शिकोह को ही मुगल वंश का अगला बादशाह बनते हुए देखना चाहते थे। शिकोह में भी लायक बादशाह की पूरी खूबियां थीं। वे सूफीवादी और हनफी पंथ के अनुयायी थे। वे सभी मजहबों का आदर करते थे। उन्हें सभी धर्मों के दर्शन में खासी दिलचस्पी थी। हालांकि, उन्हें अपने उदार विचारों का खामियाजा भुगतना पड़ा। औरंगजेब ने कट्टपंथ को भुनाकर दाराशिकोह को इस्लाम का गुनहगार साबित कर दिया।

आखिरकार 1658 में दारा को धर्मट युद्ध और सामूगढ़ की जंग में हार का मुंह देखना पड़ा। 9 सितंबर 1659 को इस सजा के तहत दारा शिकोह का सिर काट दिया गया। औरंगजेब ने उनके बेटे सुलेमान की भी जेल में हत्या कर दी।

खबरें और भी हैं...