पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • फर्जी मार्कशीट से चुनाव लड़ने का मामला बिजोवा सरपंच ने बीमारी बता कोर्ट में मांगी हाजिरी माफी

फर्जी मार्कशीट से चुनाव लड़ने का मामला बिजोवा सरपंच ने बीमारी बता कोर्ट में मांगी हाजिरी माफी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मजिस्ट्रेट ने खारिज किया, गिरफ्तारी वारंट से 13 को तलब

भास्कर संवाददाता | पाली

पंचायतीराज संस्थाओं के चुनाव में फर्जी मार्कशीट से चुनाव लड़कर सरपंच पद पर निर्वाचित घोषित की गई रंभादेवी के खिलाफ कोर्ट ने बार-बार बीमारी समेत अन्य कारणों से पेशी पर गैरहाजिर रहने को गंभीरता से लिया है। न्यायिक मजिस्ट्रेट देसूरी ने सोमवार को सुनवाई में हाजिर होने के बजाय बीमारी की चिट्ठी सौंपने पर मजिस्ट्रेट ने टिप्पणी की कि उनकी मंशा मामले को लंबित रखने की है। कोर्ट ने 13 अगस्त को को गिरफ्तारी वारंट से तलब किया है। इसको लेकर कोर्ट ने रानी थाना पुलिस को तहरीर भी जारी की है।

अभियोजन के अनुसार रंभा देवी पर आरोप है कि उसने चुनाव में फर्जी अंकतालिका के आधार पर चुनाव लड़कर सरपंच पद हासिल किया था। इस मामले को लेकर पुलिस में मुकदमा दर्ज करने के बाद उसके खिलाफ चालान भी पेश किया जा चुका है। सोमवार को इस मामले में देसूरी के सिविल न्यायाधीश एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में पेशी थी। पेशी के दौरान वह मौजूद नहीं रही। उनके वकील की तरफ से बीमारी होने का हाजिरी माफी का प्रार्थना पत्र पेश किया गया। इसे कोर्ट ने अस्वीकार कर दिया। मजिस्ट्रेट ने लिखित आदेश में कहा कि कोर्ट में हाजिर नहीं रहने का कोई ठोस कारण प्रतीत नहीं हो रहा है। इसलिए उनको अब 13 अगस्त को गिरफ्तारी वारंट के जरिए तलब किया गया है।

डॉक्टर की पर्ची को मजिस्ट्रेट ने नहीं माना

सरपंच के वकील की तरफ से कोर्ट में सरपंच रंभा देवी को बुखार, उल्टी-दस्त से पीड़ित होने की पर्ची पेश की गई थी। चिकित्सीय प्रमाण पत्र पेश नहीं किया गया था। इसमें कहा गया कि वह चलने-फिरने में असमर्थ है। इसलिए कोर्ट में पेश नहीं हो सकती। इस पर मजिस्ट्रेट ने कहा कि आरोपी का अनुपस्थित रहने का ठोस कारण नहीं है। बार-बार ऐसे प्रमाण पत्र पेश कर वे मामले को लंबित रखने का प्रयास कर रही है। भास्कर संवाददाता. पाली

खबरें और भी हैं...