पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में कई किसानों के नाम ही शामिल नहीं किए

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में कई किसानों के नाम ही शामिल नहीं किए

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ किसानों को नहीं मिल रहा है। 2017 में रिगनिया, नायन, हेमती, बड़ोदिया, सुराणा, मलवासा, हतनारा, धमोत्तर आदि गांव में सोयाबीन की फसल खराब हो गई थी। फसल का सर्वे किया लेकिन बीमा राशि लिस्ट आई तो कई गांवों के नाम नहीं है ।

मलवासा के किसान व शिवसेना जिला प्रमुख रघु बैरागी ने बांगरोद सोसायटी में बीमा से वंचित किसानों को बीमा में शामिल करने के लिए कलेक्टर रुचिका चौहान को शिकायत की। साथ में गोपाल चौधरी, जयराम पाटीदार, दशरथ पाटीदार, राधेश्याम पाटीदार, मनीष पाटीदार, सिकंदर पटेल आदि किसानों थे।

रिंगनिया के अरविंद पाटीदार का कहना है कि पिछले साल सोयाबीन खराब हो गई थी कृषि विभाग को सूचना दी, सर्वे हुआ लेकिन फसल बीमा लिस्ट में हमारे गांव के नाम ही गायब हो गए। जल्द जो गांव छूटे उन्हें नहीं जोड़ा तो आंदोलन किया जाएगा।

मलवासा के किसान गणेश शर्मा, ठीकम सिंह शक्तावत, गोपाल चौधरी, विजय पाटीदार ने बताया कि बांगरोद सोसायटी में मलवासा, हतनारा, धमोत्तर को छोड़कर सभी को बीमा राशि दी जबकि नुकसान सभी दूर हुआ। सर्वे भी किया लेकिन बीमा नहीं दिया। बीमा कंपनी क्रॉप कटिंग के आधार पर बीमा तय करती है जो सही नहीं है। ग्रामीणों का कहना है कि बीमा राशि नहीं दी तो प्रदर्शन करेंगे।

बांगरोद सोसायटी के मुख्य प्रबंधक निहार व्यास ने बताया कि हमारी सोसायटी में नौ गांव हैं। सभी के प्रस्ताव एक साथ जिला सहकारी केंद्रीय बैंक रतलाम पहुंचा दिया था। ऋणी किसानों का पहले ही बीमा रहता है। आप जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के बीमा प्रभारी महेश चौहान से बात कर सकते हैं। बीमा प्रभारी महेश चौहान ने बताया कि समितियों से जानकारी आती है हम उसे बीमा कंपनी को दे देते हैं। बीमा देना या न देना ये बीमा कंपनी क्रॉप कटिंग के आधार पर तय करती है हम नहीं।

2017 में खरीफ फसल सोयाबीन के पीले मैजिक से खराब फसल देखते अधिकारी व पटवारी विनीत त्यागी। पटवारी ने 50 यहां प्रतिशत नुकसान बताकर पंचनामा बनाया था। (फाइल फोटो)

सर्वे करके किसे रिपोर्ट करते हैं, ये जानकारी नहीं

मलवासा, रिगनिया, हतनारा, हेमती के पटवारी योगेश गहलोत ने बताया कि बीमा कंपनी जीपीएस दवा्रा तय लोकेशन के प्लांट्स पर क्राॅप कटिंग से बीमा राशि तय करती है। हम केवल सहयोग करते हैं। हां ये काम राजस्व विभाग की देखरेख में होता है।

खबरें और भी हैं...