• Hindi News
  • National
  • रैणी में तूफान, दीवार गिरने से बालक की मौत

रैणी में तूफान, दीवार गिरने से बालक की मौत

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कस्बा व आसपास के क्षेत्र में सोमवार सुबह करीब सवा ग्यारह बजे अंधड़ के साथ चली तूफानी हवा ने तबाही मचा दी। सैकड़ों पेड़ जड़ समेत उखड़ कर धराशायी हो गए। मकान की दीवार गिरने से एक 14 वर्षीय बालक की मौत हो गई, जबकि टीनशेड के नीचे दबने से एक 4 वर्षीय बालक घायल हो गया। दर्जनों मकान-दुकानों में दीवारें गिरने से नुकसान हुआ। अचानक मौसम बदला और किसी को संभलने का मौका तक नहीं मिला। अंधड़ के दौरान करीब 20 मिनिट तक चने के आकार के ओलों के साथ बारिश भी हुई। रैणी, डेरा, भझेडा, रामपुरा, परबैणी आदि गावों में नुकसान ज्यादा हुआ है। पेड़ गिरने से जगह-जगह बिजली के तार व पोल टूट गए। तूफान से रैणी व भझेडा फीडर पर करीब 50 बिजली के टूटने की बात बिजली निगम ने कही है। तेज बारिश से कस्बे के बाजारों में पानी भर गया। मुख्य बाजार व बस स्टैण्ड की करीब दो दर्जन दुकानों में पानी भर गया। अंधड से गुल बिजली देर रात तक ठीक नहीं हो सकी।

आशाराम मीणा

9 फीट ऊंची दीवार किशोर पर आ गिरी
रैणी कस्बे की जौधाला वाली ढाणी में 14 वर्षीय आशाराम मीणा पुत्र कालूराम मीणा टीनशेड के नीचे बैठा था। तूफान में टीनशेड उड़ गई और इसकी करीब 9 फीट ऊंची व 10 फीट लंबी पत्थर की दीवार नीचे आ गिरी। आशाराम उसमें दब गया। परिजनों ने जैसे-तैसे उसे मलबे से निकालकर रैणी अस्पताल पहुंचाया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पर रैणी थाना प्रभारी महेश शर्मा, नायब तहसीलदार राधेश्याम मीणा, रैणी सरपंच हरिसिंह मीणा, पटवारी दिनेश मीणा व रामेश्वर दयाल मीणा मौके पर पंहुचे। आशाराम कक्षा आठ का छात्र था। उधर, कस्बे में ही एक और मकान में टीनशेड उड़कर आंगन में खेल रहे 4 वर्षीय बालक प्रिंस पर आ गिरी। जिससे वह घायल हो गया। उसका अस्पताल में उपचार किया गया। तीन-चार कस्बावासियों को ऐसी ही घटनाओं में चोटें आईं।

खबरें और भी हैं...