पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • बोर्ड परीक्षा: जिलेभर में टॉपर रही निकिता को मिलेगा 75 हजार रुपए का पुरस्कार

बोर्ड परीक्षा: जिलेभर में टॉपर रही निकिता को मिलेगा 75 हजार रुपए का पुरस्कार

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से आयोजित दसवीं की परीक्षा में जिले में अव्वल रहने पर शहर की बेटी निकिता अग्रवाल का पद्माक्षी पुरस्कार के लिए चयन किया गया है। इसके तहत उसे सरकार की ओर से 75 हजार रुपए की राशि दी जाएगी।

मंडी व्यापारी अशोक अग्रवाल की पुत्री निकिता ने दसवीं बोर्ड परीक्षा में इस बार सामान्य वर्ग में जिले में सर्वाधिक अंक प्राप्त किए थे। उसे कुल 94.67 प्रतिशत अंक मिले थे। शहर के ह्युदाण मॉडल स्कूल से दसवीं की परीक्षा देकर निकिता ने पूरे कोटा जिले में सामान्य वर्ग में प्रथम स्थान प्राप्त किया था। इस पर निकिता का पद्माक्षी पुरस्कार के लिए चयन किया गया है।

पुरस्कार के तहत निकिता को सरकार की ओर से 75 हजार रुपए दिए जाएंगे। शुरू से की पढ़ने में अव्वल रहने वाली निकिता अभी कोटा रहकर मेडिकल की तैयारी कर रही है। उनकी माता रचना गृहणी हैं। निकिता की बड़ी बहन सलोनी ने भी 2016 में दसवीं में रामगंजमंडी टॉप किया था। निकिता ने अपनी सफलता का श्रेय परिजनों और शिक्षकों को देती है। उसकी इस उपलब्धि पर स्कूल की ओर से भी बधाई दी गई है। साथ ही शहर में स्वतंत्रता दिवस पर निकिता को सम्मानित करने के लिए नगरपालिका में भी आवेदन किया गया है। गौरतलब है कि बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने आठवीं से 12वीं तक बोर्ड परीक्षाओं में जिले में प्रथम आने वाली बेटियों को पद्‌माक्षी पुरस्कार देने की घोषणा की है। इसकी शुरुआत इसी सत्र से की गई है। यह पुरस्कार सभी वर्ग में दिए जाएंगे। आठवीं बोर्ड में जिले में प्रथम आने पर 40 हजार, दसवीं में प्रथम आने पर 75 हजार और 12वीं में जिले में प्रथम आने पर एक लाख रुपए व प्रशस्ति-पत्र दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...