पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • ऊर्जा मित्र एप से जुड़े शहरी क्षेत्र के 122 फीडर

ऊर्जा मित्र एप से जुड़े शहरी क्षेत्र के 122 फीडर

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहरी क्षेत्र के उपभोक्ताओं में बिजली कट के दौरान बिजली निगम के प्रति रोष उत्पन्न न हो सके, इसलिए बिजली निगम के अफसर ऊर्जा मित्र एप की व्यवस्था लाए हैं। अफसरों ने इस एप से शहरी क्षेत्र में लगे 122 फीडर को ऑनलाइन कनेक्ट कर दिया है।

इन फीडरों से शहर के 1 लाख 90 हजार उपभोक्ताओं के घरों में बिजली सप्लाई होती है। मेंटेनेंस होने या फाल्ट आने की वजह से लगने वाले बिजली कट की सूचना संबंधित क्षेत्र के प्रत्येक उपभोक्ता को रहे, इसके लिए निगम ने ऊर्जा मित्र एप को लागू करने की पहल की है। इस व्यवस्था के तहत प्रत्येक कनेक्शनधारक उपभोक्ता बिजली निगम के दफ्तर में जाकर को नो योअर कस्टमर (केवाईसी) फार्म भरना होगा। जिसमें उसे नाम, मोबाइल नंबर, पता से लेकर अन्य जरुरी जानकारी अपडेट करनी होगी। उपभोक्ता का नाम और मोबाइल ऊर्जा मित्र एप पर फीड किया जाएगा। यह नंबर एप पर फीड होने के बाद उपभोक्ता के पास उसके क्षेत्र में कब, किस समय से किस समय कट रहा है और ये कट किस वजह है। ये पूरी जानकारी का मैसेज सीधे उपभोक्ता के मोबाइल पर एसएमएस के जरिए पहुंचेगा, जिससे उपभोक्ता को संशय में नहीं रहना होगा।

बिजली कट लगते ही 1 लाख 90 हजार उपभोक्ताओं के मोबाइल पर एसएमएस के जरिए आएगा संदेश

एसडीओ व सब स्टेशन स्टाफ को अपडेट करना होगा डेटा

गाइडलाइंस में स्पष्ट किया गया है कि ऊर्जा मित्र एप के फीडरों से जुड़ने के बाद अधिक से अधिक संख्या में उपभोक्ताओं तक बिजली कट के मैसेज पहुंचाए जाएं। इस एप पर संबंधित फीडर के एसडीओ व सब स्टेशन स्टाफ के सदस्य नियमित तौर पर डाटा को अपडेट कर उपभोक्ताओं तक बिना किसी देरी के सूचना भेजते रहें। जिससे उपभोक्ताओं को बिजली कट लगने से परेशान होकर बिजली सुविधा केंद्र तक न आना पड़े।

फीडर से एप कनेक्ट हो गए हैं, अब केवाईसी

पूरी कराने की प्रक्रिया चल रही है

ऊर्जा मित्र एप से शहरी क्षेत्र के 122 फीडरों को कनेक्ट कर दिया है। अब केवाईसी फार्म भरवाकर सभी उपभोक्ताओं के मोबाइल नंबर अपडेट कराए जा रहे हैं। जैसे ही नंबर अपडेट होते हैं, फौरन बिजली कट लगने के मैसेज जाने लगेंगे। इस एप की खास बात यह है कि उपभोक्ताओं को सिर्फ मोबाइल नंबर देना है और सूचना आनी शुरू हो जाएगी। सीएमडी भी इस एप को सफल बनाने के लिए जरुरी निर्देश दे चुके हैं। -एसके बंसल, एसई, रोहतक सर्कल

सीएमडी ने जानी एप सफल होने की प्रगति रिपोर्ट

यूएचबीवीएन व डीएचबीवीएन के सीएमडी शत्रुजीत कपूर ने एक सप्ताह पूर्व रोहतक आगमन पर सर्कल के अफसरों के साथ समीक्षा मीटिंग की थी। मीटिंग के एजेंडे में ऊर्जा मित्र एप की प्रोग्रेस एक विषय शामिल किया गया। जिस पर सीएमडी ने अफसरों से जाना कि रोहतक सर्कल में ये एप कितना सफल हो पाया है। एसई ने बताया कि ऊर्जा मित्र एप शहरी क्षेत्र के 122 फीडरों से जोड़ दिया गया है। अब उपभोक्ताओं से केवाईसी फार्म भरवाने का कार्य तेजी से किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...