पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • रोडवेज यूनियन का दावा हड़ताल से 15 लाख का हुआ नुकसान, प्रशासन : प्रदेश से बाहर गईं बसों से घाटा पूरा

रोडवेज यूनियन का दावा-हड़ताल से 15 लाख का हुआ नुकसान, प्रशासन : प्रदेश से बाहर गईं बसों से घाटा पूरा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मोटर व्हीकल संशोधन बिल 2017 को रद्द करवाने, सरकार की ओर से 700 बसें ठेके पर लेने के विरोध व सरकारी परिवहन सेवा को बचाने के लिए हरियाणा संयुक्त संघर्ष समिति ने मंगलवार को पूरे दिन 184 बसों का चक्काजाम रखा। सुबह चार बजे से शाम पांच बजे तक प्रदेश के विभिन्न जिलों व प्रदेश से बाहर जाने वाले करीब 22 हजार यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ी। एक दिन में रोहतक रोडवेज को 15 लाख रुपए की आय का नुकसान हुआ है। इस दौरान सहकारी परिवहन समिति और दूसरे सवारी वाहनों ने खूब चांदी कूटी। कई यात्रियों ने मनमाना किराया वसूलने की भी शिकायत की। वहीं रोडवेज जीएम ने दावा किया कि चक्काजाम रहने के बाद भी 65 बसों को रूट पर चलाया गया। शाम चार बजे तक आठ लाख रुपए की आय हुई है।

सुबह 4 बजे वर्कशॉप से बसें निकालने पर हंगामा

मंगलवार सुबह 4 बजे के करीब महाप्रबंधक राहुल जैन पुलिसकर्मियों को लेकर वर्कशॉप से बसें निकलवाने पहुंचे। दिल्ली, हिसार व सिरसा की ओर जाने वाली तीन बसें ही बाहर निकल पाईं थीं। तभी यूनियन नेता युद्धवीर दांगी, जयकुंवार दहिया, जोगिंदर बल्हारा सहित अन्य प्रतिनिधि मौके पर जाकर नारेबाजी कर हंगामा करने लगे। 50 से अधिक कर्मचारी मौके पर ही धरना देकर बैठ गए। पुलिसकर्मियों व रोडवेज जीएम ने नेताओं को गेट के बाहर से हटाने के लिए प्रयास किया। आधे घंटे तक हुए हंगामे में दोनों पक्षों में कई बार धक्कामुक्की भी हुई। बाद में प्रशासन का दस्ता बैरंग लौट गया। इसके बाद पूरे दिन रोडवेज कर्मियों ने बस स्टैंड परिसर में सरकार विरोधी भाषण देकर रोष व्यक्त किया।

खबरें और भी हैं...