पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पीजीआई सिक्योरिटी गार्ड घोटाला

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पीजीआई सिक्योरिटी गार्ड घोटाले की जांच कर रही एसआईटी ने सात दिन बाद मंगलवार को फिर से पूर्व मुख्य सुरक्षा अधिकारी बादाम सिंह से पूछताछ की। बादाम सिंह को पुलिस लाइन स्थित एसआईटी इंचार्ज डीएसपी मोहम्म्द जमाल के ऑफिस में बुलाया गया था। डीएसपी ऑफिस में घोटाले के बारे में बादाम सिंह के बयान दर्ज किए गए। इससे पहले भी डीएसपी ने पिछले मंगलवार को बादाम सिंह और संजय सांगवान को पूछताछ के लिए बुलाया था। डीएसपी जमाल ने बताया कि पीजीआई के पूर्व सिक्योरिटी ऑफिसर बादाम सिंह को पूछताछ के लिए बुलाया गया था। केस की फाइल स्टडी करने के बाद बादाम सिंह को बुलाया गया था। डीएसपी का कहना है कि वह मामले से जुड़े कई लोगों से पूछताछ कर चुके है। मगर अभी तक जांच में सभी एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रहे है। इस मामले की तह तक जाने के लिए जल्द ही भिवानी बोर्ड से 103 फर्जी कर्मचारियों की डिटेल मांगी जाएगी। साथ ही मामले में फरार चल रहे सुरक्षा एजेंसी के अकाउंटेंट की तलाश में टीमें लगा दी गई है। केस में अहम सबूत जुटाने के लिए उसका गिरफ्तार होना जरूरी है।

एक दूसरे को दोषी बता पुलिस जांच की दिशा भटका रहे सभी आरोपी

ये था मामला

पीजीआई की सुरक्षा में लगाए गए सिक्योरिटी गार्ड की नियुक्ति को लेकर बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया था। सुरक्षा का ठेका लेने वाली कंपनी पर भिवानी शिक्षा बोर्ड में तैनात 103 कर्मचारियों का वेतन भी संस्थान से वसूलने का आरोप था। कंपनी ने फर्जी दस्तावेज बिल के जरिए यह घपला किया था। अधिकारियों को घालमेल का अंदेशा हुआ तो फिजिकल वेरिफिकेशन में कंपनी के अधिकारी फंस गए थे। संस्थान ने इस बारे में पुलिस को शिकायत देकर निजी कंपनी के खिलाफ केस दर्ज किया था।

खबरें और भी हैं...