पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • पानीपत के संदिग्ध बच्चे व पीड़िता का डीएनए मैच नहीं, महिला डॉक्टर भी पॉलीग्राफी टेस्ट कराने को तैयार

पानीपत के संदिग्ध बच्चे व पीड़िता का डीएनए मैच नहीं, महिला डॉक्टर भी पॉलीग्राफी टेस्ट कराने को तैयार

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पीजीआई बच्चा चोरी के मामले में डीएसपी मोहम्मद जमाल के नेतृत्व में दोबारा जांच शुरू कर दी है। पानीपत की महिला के बच्चे और पीड़िता की डीएनए टेस्ट की रिपोर्ट आ चुकी है। रिपोर्ट के अनुसार दोनों का डीएनए मैच नहीं हुआ है। अब पुलिस ने नए सिरे से मामले की जांच शुरू कर दी है। बच्चा चोरी होने के बाद पुलिस ने जिलेभर के गांव में नवजात की तलाश की थी। तब एसआईटी ने दिल्ली के नजफगढ़ से एक संदिग्ध बच्चे को महिला से बरामद किया था। महिला रोहतक की जनता कॉलोनी निवासी है और उसकी शादी नजफगढ़ में हुई थी। दंपति का दावा था कि उन्होंने बच्चा पानीपत की एक महिला से गोद लिया था। पानीपत की महिला से एक डॉक्टर और दाई ने बच्चे को दंपति को गोद दिलाया था। जब उनसे गोद लेने के कानूनी प्रक्रिया के तहत कागजात मांगे गए तो वह नहीं दिखा सके। साथ ही पानीपत की महिला भी बच्चे की मां होने से संबंधित कोई कागजात नहीं दिखा सके थे।

ये था मामला

रोहतक के डेयरी मोहल्ले की रंजू ने 10 सितंबर 2017 को पीजीआई के लेबर रूम में एक बच्चे को जन्म दिया था। जन्म के कुछ समय बाद ही यह बच्चा लेबर रूम से चोरी हो गया था और अब तक इस बच्चे का सुराग नहीं लग पाया है। हालांकि रोहतक पुलिस ने बच्चे का सुराग देने पर इनाम का एलान भी कर रखा है। इस मामले में नर्सिंग स्टाफ बलजीत कौर को सस्पेंड किया जा चुका है। उसके खिलाफ पुलिस केस भी दर्ज है। मगर अभी तक बच्चा नहीं मिला। अब पीड़ित पक्ष ने चेतावनी दी है कि यदि 15 दिन में बच्चा नहीं मिला तो वह लेबर रूम के बाहर अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर देंगे।

लेबर रूम में तैनात रहे स्टाफ से फिर होगी पूछताछ

इसके बाद पीजीआई थाना पुलिस ने जीरो एफआईआर दर्ज कर मामले को पानीपत पुलिस को सौंप दिया गया था। बाद में संबंधित बच्चे और पीड़िता के डीएनए टेस्ट के लिए बच्चे का ब्लड सैंपल लिया गया था। डीएसपी मोहम्मद जमाल ने बताया कि रिपोर्ट में बच्चे और पीड़िता का डीएनए मैच नहीं हुआ है। पुलिस ने मामले की तह तक जाने के लिए दोबारा से लेबर रूम में बच्चा चोरी के दिन तैनात स्टाफ को पूछताछ के लिए बुलाने की तैयारी कर ली है। जल्द ही पुलिस की तरफ से सभी को नोटिस जारी करके पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा।

डॉक्टर बोली-बीमारी के कारण नहीं करवाया था टेस्ट

पॉलीग्राफी टेस्ट कराने से बच रही पीजीआई की महिला डॉक्टर अब टेस्ट कराने के लिए तैयार हो गई है। महिला डॉक्टर ने पुलिस को बताया कि बीमार होने के कारण वह टेस्ट नहीं करा सकी थी। इस संबंध में उसने पुलिस को मेडिकल रिपोर्ट भी सौंपी थी। डीएसपी मोहम्म्द जमाल ने बताया कि जल्द ही महिला डॉक्टर के पॉलीग्राफी टेस्ट की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...