पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 5वें नंबर पर नाम, फिर भी छठवें नंबर के आवेदक को दी नौकरी

5वें नंबर पर नाम, फिर भी छठवें नंबर के आवेदक को दी नौकरी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्राचार्य का दावा-आवेदक दो बार के बुलावे के बाद भी नहीं आया इसलिए वेटिंग वाले को रखा

भास्कर संवाददाता | सागर

स्कूलों में चल रही अतिथि शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में धांधली होने की शिकायत का पहला मामला सामने आया है। इसमें बरायठा हायर सेकंडरी स्कूल के प्राचार्य पर मनमानी करने के आरोप आवेदक ने लगाए हैं। आवेदक ओमकार प्रसाद अहिरवार ने कलेक्टर कार्यालय में दिए ज्ञापन में अारोप लगाए हैं कि अतिथि शिक्षक चयन के लिए बनी सूची में मेरा नाम पांचवें नंबर पर होने के बाद भी 6वें नंबर के आवेदक का चयन कर दिया गया।

आवेदक के मुताबिक वह स्कूल में तय समय पर आ गया था, साथ ही यह भी दावा किया कि पद खाली हाेने के कारण मेरा चयन होना चाहिए। इस पर प्राचार्य एमके खरे ने मेरी भर्ती ने की। उन्होंने आवेदन में प्राचार्य पर आरोप लगाए हैं कि प्राचार्य ने जानबूझकर मुझे प्रक्रिया से अलग करते हुए छठवें नंबर पर आई कीर्ति नामदेव का चयन नियम विरुद्ध कर लिया। मुझे अनुपस्थित बताकर दूसरे का चयन किया जाना गलत है। इस पर कार्रवाई होना चाहिए। इस संबंध में प्राचार्य का कहना है कि शिकायतकर्ता का तीन-चार जगह चयन हुआ था। इसलिए वह कंफ्यूज थे। हमने कॉल किया तो कहा कि मुझे भड़राना जाना है। चूंकि दो अगस्त तक पोर्टल पर एंट्री करना थी, यदि नियुक्ति नहीं करता तो पद ही खाली रह जाता। जो अभी शिकायत कर रहे हैं, उन्हें दूसरी बार भी कॉल किया, लेकिन उन्होंने कहा कि मुझे तो बरा स्कूल जाना है। जब वो 11.30 बजे तक नहीं आए तो वेटिंग में अगले नाम की आवेदक को बुला लिया। जो आरोप लगा रहे हैं वह 3 बजे आए। तब तक दूसरा ज्वाइन कर चुका था। इसकी फीडिंग भी की जा चुकी है। चूंकि आवेदक ने ही आने में आनाकानी की, लेकिन वह समय-सीमा में नहीं आए। इसलिए वेटिंग में जिसका अगला नाम था। इसलिए उसे ज्वाइन करा लिया। अब कुछ नहीं हो सकता।

खबरें और भी हैं...