पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • \"यहां तो सम्मान से बुलाया है लेकिन किसी ने गड़बड़ी की तो बख्शेंगे नहीं \'

\"यहां तो सम्मान से बुलाया है लेकिन किसी ने गड़बड़ी की तो बख्शेंगे नहीं \'

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
10 अप्रैल को सामान्य-पिछड़ा वर्ग के अखिल भारतीय बंद को लेकर पुलिस-प्रशासन ने शुक्रवार को विभिन्न सामाजिक-व्यावसायिक संगठनों की बैठक में अपने तेवर स्पष्ट कर दिए।

अध्यक्षता कर रहे कलेक्टर आलोक कुमार सिंह ने कहा कि बंद के दौरान आप लोग शांतिपूर्वक अपनी बात रखें लेकिन इसमें कुछ भी हिंसात्मक या जोर जबरदस्ती दिखाई तो हम कड़ा एक्शन लेने में देरी नहीं करेंगे। अभी आप लोग यहां सम्मानपूर्वक आमंत्रित किए गए हैं, गड़बड़ी करने पर इस सम्मान की अपेक्षा नहीं करें।

उन्होंने दोबारा स्पष्ट करते हुए कहा कि आप लोगों को कतई रैली-जुलूस निकालने की परमिशन नहीं है। अगर आप अपनी बात रखना चाहते हैं तो एक प्रतिनिधिमंडल पीली कोठी पर आए और अपना मांग-पत्र या ज्ञापन दे।

30 लोगों को जिला बदर और 5 के खिलाफ रासुका की तैयारी : एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल ने कहा कि बंद के आह्वान को लेकर पुलिस अलर्ट है। माहौल बिगाड़ने वाले तत्वाें पर हमारी निगाह है। एहतियातन 30 लाेगों को जिला बदर आैर 5 के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई प्रस्तावित की गई है। साथ ही एससी-एसटी के प्रदर्शन के दौरान तोड़फोड़ करने वालों को लगातार गिरफ्तार किया जा रहा है। एसपी ने बताया कि भारत बंद से पहले गढ़ाकोटा में किसान सम्मेलन, फिर भारत बंद और उसके बाद 14 अप्रैल को डॉ. भीमराव अांबेडकर की जयंती तक हमारी साइबर सेल विभिन्न वॉट्स एप ग्रुप और फेसबुक पर सतत निगाह रखे है, जो भी व्यक्ति किसी भी ग्रुप में अापत्तिजनक मैसेज, टीका-टिप्पणी, फोटो-वीडियो अपलोड करेगा।

उसके साथ उस ग्रुप के एडमिन पर कार्रवाई की जाएगी। एक अन्य जानकारी के मुताबिक इस बंद को लेकर रेलवे पुलिस ने भी अलर्ट जारी किया है। रेल सुरक्षा बल को निर्देश दिए गए हैं कि यात्रियों की सुरक्षा और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों पर कठोर कार्रवाई करें।

सागर 10 संवेदनशील जिलों में शामिल
दो अप्रैल को शहर में हुए हिंसात्मक प्रदर्शन के बाद राज्य के खुफिया तंत्र ने सागर को प्रदेश के 10 संवेदनशील जिलों की सूची में शामिल किया है। इस संबंध में हाल ही में कलेक्टर-एसपी को 10 अप्रैल के सम्मेलन से लेकर डॉ. भीमराव अांबेडकर की जयंती तक विशेष एहतियात बरतने के निर्देश दिए गए हैं। आज हुई बैठक पर इन्हीं निर्देशों का असर रहा। बैठक के दौरान दोनों अधिकारियों ने बताया कि जिन लोगों ने 2 अप्रैल को शहर का माहौल बिगाड़ा, उनके खिलाफ लगातार कार्रवाइयां की जा रही हैं। बैठक में विश्व हिंदु परिषद के जिलाध्यक्ष अजय दुबे, सर्व ब्राहाण समाज के भरत तिवारी, जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष अंकलेश्वर दुबे, सिख समाज से जितेंद्र पाल सिंह चावला, जैन समाज से मुकेश जैन ढाना, गो रक्षा संगठन से सूरज सोनी समेत जिला शांति समिति के सदस्य मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...