• Hindi News
  • National
  • तेजाब फेंकने के पांच आरोपितों को दस दस साल का कठोर कारावास

तेजाब फेंकने के पांच आरोपितों को दस-दस साल का कठोर कारावास

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यालय संवाददाता | सवाई माधोपुर

न्यायालय विशिष्ट न्यायाधीश अनुसूचित जाति/ जनजाति (अत्याचार निवारण) प्रकरण बाल किशन मिश्रा ने पैसे के लेनदेन को लेकर युवक पर मारपीट के बाद तेजाब फैंकने के पांच आरोपियों को भा.द.स. की धारा 326 में दस-दस साल के कठोर कारावास व पांच-पांच हजार रुपए के अर्थ दण्ड की सजाई सुनाई है। न्यायालय ने आरोपियों को 148, 341, 323 में भी सजा सुनाई है। वहीं न्यायालय ने प्रकरण के चार आरोपियों को बाइज्जत बरी किया है।

यह है मामला

प्रकरण के अनुसार पीड़ित चांदमल महावर ने अपने पर्चा बयान में बताया कि 10 मई 2009 की रात करीब आठ बजे आरोपी रमेश के घर बस किराए के पैसे लेने गया था। आवाज देने पर रमेश का बेटा भगवान आया तथा पिता के घर पर नहीं होने की बात कही। इस दौरान रमेश भी वहां आ गया। रमेश से बारात के बस का किराया मांगा तो उसने पैसे देने से मना कर दिया। मैने बारात डालने की पर्ची होने की बात कही। पैसे नहीं देने पर पीड़ित वापस आ रहा था तो रमेश, भगवान, राम, शिखर, भरत, कमलेश, कालू, गोरी, डाक्या तथा चमेली व उसके पति ने रोककर मारपीट की। पीड़ित का छोटा भाई बचाने आया तो उसके साथ भी मारपीट की तथा आरोपियों ने चांदमल के ऊपर तेजाब डाल दिया। इस पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा जुर्म 143, 323, 341, 354, 326, 307 आईपीसी में प्रमाणित पाए जाने पर आरोपी रमेश चंद व भगवान को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आरोपी भगवान से तेजाब की बोतल भी बरामद की।

पैसे के लेनदेन को लेकर हमला

अतिरिक्त लोक अभियोजक चंपालाल मीना ने बताया कि पैसे के लेनदेन को लेकर 10 मई 2009 को ब्रह्मपुरी कॉलोनी शहर सवाईमाधोपुर निवासी चांदमल महावर के साथ आरोपियों ने मारपीट कर तेजाब फैंक दिया था। इससे वह गंभीर रूप से झुलस गया। कोतवाली थाना पुलिस ने पीड़ित के पर्चा बयान पर रमेश चंद पुत्र चतरु महावर, भगवान पुत्र रमेश महावर, श्यामलाल पुत्र घींस्या महावर, कमलेश पुत्र हजारीलाल महावर, भरत महावर पुत्र गोपीचंद, डाक्या उर्फ सीताराम पुत्र गोपाल महावर, शिखर चंद पुत्र गोपीचंद महावर निवासीयान ब्रह्मपुरी मोहल्ला शहर तथा चिरंजी पुत्र अमरचंद महावर व लक्ष्मण उर्फ विजय कुमार पुत्र चिरंजीलाल महावर निवासीयान शिवमंदिर को पीछे रेलवे कॉलोनी के खिलाफ मामला दर्ज किया।

किस धारा में कौनसा दंड : पुलिस ने प्रकरण की जांच कर उक्त धाराओं में आरोपियों के खिलाफ सेशन जज न्यायालय में आरोप पत्र दायर किया। जहां से उपार्जित होकर प्रकरण न्यायालय विशिष्ट न्यायाधीश एससी/एसटी (अ.नि.) को ट्रांसफर किया गया। इस पर न्यायालय ने सुनवाई करते हुए आरोपी रमेश चंद, भगवान, कमलेश, भरत महावर व शिखर चंद को धारा 326 में दस-दस साल का कठोर कारावास व पांच-पांच हजार रुपए के अर्थ दण्ड से दंडित किया। इसी तरह धारा 148 में तीन साल का कठोर कारावास, तीन-तीन हजार अर्थ दण्ड, धारा 341 में एक-एक माह का साधारण कारावास, पांच-पांच सौ रुपए अर्थ दण्ड, धारा 323 में तीन-तीन माह का साधारण कारावास, एक-एक हजार रुके अर्थ दण्ड से दंडित किया है। आरोपियों की सभी सजाएं एक साथ चलेगी। वहीं न्यायालय ने चिरंजी, लक्ष्मण, श्यामलाल व डाक्या उर्फ सीताराम महावर को बाइज्जत बरी कर दिया।

खबरें और भी हैं...