पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • टीवी, फिल्म देखने पर भी नपा वसूलेगी 20% टैक्स

टीवी, फिल्म देखने पर भी नपा वसूलेगी 20% टैक्स

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
टीवी और फिल्म देखना जल्द ही 20 फीसदी तक और महंगा हो सकता है। इन दोनों माध्यम पर लगने वाले मनोरंजन कर की वसूली अब नगर पालिका करेगी। कुछ साल पहले तक यह अधिकारी आबकारी विभाग और बाद में वाणिज्यकर विभाग के पास रहा। लेकिन अब नपा को इन माध्यमों पर 20 फीसदी तक टैक्स वसूलने का अधिकार दिया जा रहा है। इसे किस तरह लागू करना है, इसे लेकर 16 अगस्त को भोपाल में मीटिंग रखी गई है, जिसमें नगर निगम के अलावा एक लाख से अधिक आबादी वाले शहरों के सीएमओ व राजस्व अधिकारियों को बुलाया गया है।

नगर पालिका अधिकारियों के अनुसार गजट नोटिफिकेशन आया है, जिसमें जनसंख्या के आधार पर टैक्स वसूलने की कार्रवाई की जाएगी। प्रस्तावित टैक्स को लेकर केबल ऑपरेटर व डीटीएच सेवा प्रदाता एजेंसियों में अभी से नाराजगी है। उनका कहना है कि पहले ही इस पर 12 फीसदी जीएसटी वसूला जा रहा है। वहीं केबल ऑपरेटरों के अनुसार केबल टीवी पहले से ही महंगा हो रहा है। 12 फीसदी जीएसटी पहले से लगा है और अब मनोरंजन कर भी देना होगा। जबकि सरकार वन नेशन वन टैक्स की बात कर रही है। दूसरे केबल कंपनियों द्वारा जो हमें फीड दी जाती है, उस पर प्रति ग्राहक 50 रुपए लिए जा रहे थे। पर अब कंपनियों ने दो स्तरों पर वृद्धि कर दी है, जिससे हमें उन्हें प्रति ग्राहक 84 रुपए देना होगा। प्रतिस्पर्धा के कारण हम सीधे ग्राहक पर भी यह बोझ नहीं डाल सकते। आने वाले दिनों में कुछ दूरसंचार कंपनियां भी इस क्षेत्र में उतरने वाली हैं।

किस तरह होगी वसूली : केबल टीवी के मामले में तो यह कर प्रति ग्राहक के हिसाब से वसूला जाएगा। डीटीएच मामले में कंपनियों के डीलर से यह टैक्स वसूला जाएगा। इसी तरह सिनेमाघर में भी सीट की संख्या के आधार पर कर तय होगा।

नया नियम

मनोरंजन कर वसूलने का अधिकार अब नपा को, पहले ही वसूला जा रहा 12 फीसदी जीएसटी

बड़ा है टैक्स का दायरा

यह मनोरंजन कर सिर्फ टीवी और सिनेमाघरों या मल्टीप्लेक्स तक सीमित नहीं रहेगा। इसके दायरे में वीडियो, गेम्स, थीम पार्क, मेले भी आएंगे। केबल टीवी पर पूर्व में एक्साइज टैक्स लगाया जाता था लेकिन इसका ज्यादा असर नहीं होता था। अब डीटीएच सेवाएं भी इस दायरे में आ जाएंगी।

खबरें और भी हैं...