पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • जेएनवीयू के कुलपति व परीक्षा समन्वयक ने किया राजकीय महाविद्यालय का औचक निरीक्षण

जेएनवीयू के कुलपति व परीक्षा समन्वयक ने किया राजकीय महाविद्यालय का औचक निरीक्षण

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जेएनवीयू के कुलपति व परीक्षा समन्वयक ने किया राजकीय महाविद्यालय का औचक निरीक्षण

बालेसर | जयनारायण व्यास विवि के कुलपति आरपी सिंह, परीक्षा समन्वयक जैताराम विश्नोई व सिंडिकेट सदस्य मूलसिंह सेतरावा ने शुक्रवार को राजकीय महाविद्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने कॉलेज में चल रही परीक्षाओं में बैठक व्यवस्था, विद्यार्थियों के लिए शौचालय, पानी, कमरों में पंखों की व्यवस्था देखी। इस दौरान कॉलेज की संपूर्ण सुविधायुक्त भवन देखकर उन्होंने कहा कि यहां पर स्नातक के प्राइवेट विद्यार्थियों एवं बीएड परीक्षार्थियों की परीक्षा के लिए सेंटर बनाया जाएगा। वहीं कॉलेज में प्रो. डॉ. साधना, डी छंगाणी से कॉलेज के बारे में जानकारी ली।

भारत-पाक युद्ध के योद्धा वीरता पुरस्कार से सम्मानित इंदा का निधन, पूर्व सैनिकों व ग्रामीणों ने दी श्रद्धांजलि

बालेसर | भारत-पाक युद्ध के योद्धा व वीरता पुरस्कार से सम्मानित बस्तवा गांव के पूर्व सैनिक शैतानसिंह इंदा सुंडो का बास का निधन हो जाने पर संपूर्ण क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई। शेरगढ़ क्षेत्र के पूर्व सैनिकों ने उनको श्रद्धांजलि दी। बस्तवा निवासी शैतानसिंह इंदा का गुरुवार को उनके पैतृक गांव बस्तवा में 100 वर्ष की आयु में निधन हो गया। गांव में शेरगढ़-बालेसर क्षेत्र के पूर्व सैनिकों ने उनको सम्मान के साथ श्रद्धांजलि दी। उल्लेखनीय है कि शैतानसिंह इंदा ने द्वितीय विश्वयुद्ध व प्रथम भारत-पाक युद्ध के योद्धा थे। ब्रिटिश सरकार द्वारा इन्हें युद्ध में शौर्य प्रदर्शित करने पर वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया। इनके बड़े पुत्र भंवरसिंह ने 2 राजपुताना राइफल में रहते हुए कारगिल युद्ध में भाग लिया व छोटे पुत्र खींवसिंह ने 10 पैरा कमांडो स्पेशल फोर्सेज में रहते हुए श्रीलंका में भारतीय शांति सेना अभियान व कारगिल युद्ध में भाग लिया। वहीं पौत्र वीरेंद्र सिंह इंदा कॉलेज व्याख्याता (इतिहास) के रूप में कार्यरत है व दूसरा पौत्र भोजराजसिंह 19 राजपुताना रायफल में कार्यरत हैं। इस दौरान जोगसिंह, उत्तमसिंह, गोरधनसिंह, चैनसिंह, गोपसिंह, नेपालसिंह, आेमसिंह, पूर्व सैनिक अनोपसिंह, नरपतसिंह इंदा सहित कई लोग मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...