पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • पैदल मार्च मेंे शामिल लोग बोले शहीदों के नामकरण वाले स्कूलों के नाम की सूची बोर्ड को क्यों नहीं भेजी, ‘शहीदों का अपमान नहीं सहेगा झुंझुनूं महान’

पैदल मार्च मेंे शामिल लोग बोले-शहीदों के नामकरण वाले स्कूलों के नाम की सूची बोर्ड को क्यों नहीं भेजी, ‘शहीदों का अपमान नहीं सहेगा झुंझुनूं महान’

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता | झुंझुनूं

देश को सबसे ज्यादा सैनिक देने वाले और वतन की रक्षा के लिए शहादत देने में सिरमौर (शहीदों की बटालियन) झुंझुनूं के लोगों में शनिवार को शहीदों के सम्मान के साथ किए गए छल को लेकर जबरदस्त आक्रोश था। लोग शहीदों के सम्मान के लिए सड़कों पर उतर आए। लोगों ने बड़ी शिद्दत के साथ उन लोगों के खिलाफ एक्शन की मांग की जिन्होंने स्कूलों का शहीदों के नामकरण के बावजूद राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड तक सूचना पहुंचाना उचित नहीं समझा। नतीजा ये हुआ कि 1999 के बाद से लाखों बच्चों को मिली अंक तालिकाओं में शहीदों का नाम नहीं लिखा जा सका। युवाओं ने कहा-‘शहीदों का अपमान नहीं सहेगा झुंझुनूं महान।’ जेके मोदी राजकीय बालिका सीनियर सैकंडरी स्कूल से शहीद स्मारक तक दो किलोमीटर लंबा पैदल मार्च निकाला। भावी सैनिक भी मार्च में शामिल होने उमड़ पड़े। शहर में डिफेंस संबंधी कोचिंग करवाने वाले कई संस्थानों में अपने आप को सेना में जाने योग्य बनाने की धुन में लगे युवा सुबह छह बजे ही गौरव पथ के समीप स्थित जेके मोदी राजकीय बालिका सीनियर स्कूल के आगे एकत्र होने लगे थे। अलग-अलग पोशाक में ये बलिष्ठ युवा अपनी भुजाएं फड़का रहे थे। कई उत्साही युवा तो ‘शहीदों का अपमान नहीं सहेगा झुंझुनूं महान’, शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले, वतन पर मिटने वालों का यही बाकी निशां होगा’ जैसे नारे लगाने लगे।

लाडलों को सम्मान दिलाने सड़कों पर उतरा ‘शहीदों की बटालियन’ के लिए मशहूर झुंझुनूं
भास्कर मुद्‌दा
ये छल हमें बर्दाश्त नहीं (12)
457 जांबाज अकेले झुंझुनूं के, जिन्होंने वतन की रक्षा करते हुए जान दे दी। इसके अलावा सीकर और चूरू को भी शामिल किए जाए तो शेखावाटी के करीब 760 जवानों ने देश की रक्षा करते हुए अपनी जान दे दी।

शहीदों को उनका हक दिलाने के लिए सीकर और चूरू में भी निकालेंगे रैली

शहीदों के सम्मान के साथ किए गए छल के खिलाफ दैनिक भास्कर द्वारा चलाई जा रही मुहिम के तहत अब सीकर और चूरू में भी रैली निकाली जाएगी। शहीदों के नामकरण वाले स्कूलों का माध्यमिक शिक्षा बोर्ड व शिक्षा विभाग में रिकॉर्ड अपडेट नहीं कराने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाएगी।

शनिवार को निकाले गए पैदल मार्च में शामिल शहर के लोग गौरव पथ से गुजरते हुए।

खबरें और भी हैं...