पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • जरूरी थी 8वीं बोर्ड की परीक्षा, कई निजी स्कूलों ने नहीं करवाई, छात्रों की परेशानी देख दिया एक और मौका

जरूरी थी 8वीं बोर्ड की परीक्षा, कई निजी स्कूलों ने नहीं करवाई, छात्रों की परेशानी देख दिया एक और मौका

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राज्य सरकार की ओर से सरकारी और निजी सभी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं के लिए 8वीं बोर्ड की परीक्षा अनिवार्य करने के बावजूद कई निजी स्कूलों ने खुद के स्कूल स्तर पर ही परीक्षा करवा दी। ऐसी स्कूलों में पढ़ने विद्यार्थी जब अगली कक्षा में एडमिशन के लिए अन्य स्कूलों में गए तो विभागीय नियम की पालना नहीं करने से उन्हें एडमिशन नहीं मिला। निदेशालय में पहुंची ऐसे छात्रों की परेशानी को देखकर उन्हें बोर्ड परीक्षा दिलाने के लिए एक और मौका दिया जा रहा है। पंजीयक एवं समन्वयक शिक्षा विभागीय परीक्षाएं बीकानेर ने प्रारंभिक शिक्षा पूर्णता प्रमाण पत्र परीक्षा 2018 (8वीं बोर्ड)की फॉलोअप परीक्षा करने का निर्णय लिया है। फॉलोअप परीक्षा में जिन निजी स्कूलों ने स्कूल स्तर पर आठवीं की परीक्षा करवाई है वे विद्यार्थी और बोर्ड परीक्षा में अनुपस्थित रहने वाले विद्यार्थी भाग ले सकेंगे। यहीं, नहीं वे विद्यार्थी भी परीक्षा दे सकेंगे जो पहले निर्धारित 14 साल की आयु सीमा के कारण परीक्षा से वंचित रह गए थे।

शिक्षा विभाग ने बोर्ड परीक्षा दिए बगैर स्कूल स्तर पर 8वीं पास को नहीं माना, निजी स्कूलों के ऐसे छात्रों को देनी होगी बोर्ड परीक्षा, 11 अगस्त तक कर सकेंगे आवेदन, अनुपस्थित रहे विद्यार्थी भी दे सकेंगे परीक्षा

कौन-कौनसे विद्यार्थी दे सकेंगे 8वीं बोर्ड की फॉलोअप परीक्षा

जो अनुपस्थित रहे थे

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर की ओर आयोजित 8वीं की परीक्षा में जो विद्यार्थी अनुपस्थित रहे थे उनको दुबारा परीक्षा का मौका दिया जा रहा है। किसी विषय विशेष की परीक्षा नहीं दे पाने वाले विद्यार्थी भी फॉलोअप परीक्षा में बैठ सकेंगे।

स्कूल स्तर की परीक्षा दी

निजी स्कूलों के ऐसे विद्यार्थी, जिन्हें स्कूल प्रशासन ने खुद के स्तर पर 8वीं की परीक्षा करवा कर अगली कक्षा में भेजा है। विभागीय नियमानुसार ऐसे विद्यार्थियों को 8वीं पास नहीं माना जाएगा। उन्हें बोर्ड परीक्षा देना जरूरी है।

आयु के कारण बाहर हुए थे

ऐसे विद्यार्थी जिनकी आयु 14 साल से अधिक होने के कारण 8वीं बोर्ड की परीक्षा नहीं दिलाई जा सकी थी। विभाग ने अब आयु सीमा का नियम हटा दिया है। इसलिए किसी भी आयु का विद्यार्थी फॉलोअप परीक्षा दे सकेगा।

साढ़े 17 हजार विद्यार्थियों ने दी थी बोर्ड परीक्षा

ब्लॉक ए प्लस ए बी सी डी अनुपस्थित कुल

आबूरोड 28 371 856 1173 486 130 3044

पिंडवाड़ा 22 515 1151 1771 597 106 4162

रेवदर 51 713 1282 1521 428 96 4091

शिवगंज 30 476 985 1008 276 134 2909

सिरोही 50 641 1031 1218 389 94 3423

कुल 181 2716 5305 6691 2176 560 17629

(नोट: डाइट से उपलब्ध ग्रेडिंग के आधार पर उत्तीर्ण विद्यार्थियों का आंकड़ा)

स्कूलों को क्या करना होगा

जो विद्यार्थी पहले 8वीं बोर्ड परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन कर चुके हैं। ऐसे विद्यार्थियों को अब दुबारा आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है। ऐसे स्कूलों को अब विद्यार्थियों की विषयवार सूचना संबंधित ब्लॉक के संग्रहण एवं मूल्यांकन केंद्र को देनी होगी। आयु सीमा की बाध्यता तथा स्कूल की ओर से निजी स्तर पर 8वीं की परीक्षा देने से बोर्ड की मुख्य परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन से वंचित रहे छात्रों को अपने स्कूल के माध्यम से ऑफलाइन आवेदन पत्र भरकर 11 अगस्त तक जमा कराना होगा।

8वीं बोर्ड की परीक्षा उत्तीर्ण करना जरूरी है। जिन निजी स्कूलों ने खुद स्तर पर परीक्षा करवाई उन्हें बोर्ड से वंचित विद्यार्थियों को फॉलोअप परीक्षा दिलानी होगी, अन्यथा ऐसे स्कूलों के खिलाफ कार्रवाई के लिए विभाग को लिखा जाएगा। -रोहित बिष्ट, 8वीं बोर्ड परीक्षा प्रभारी, डाइट, माउंट आबू

खबरें और भी हैं...