पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • बैंक अधिकारी पर फर्जी दस्तावेज तैयार करने का आरोप, न्यायालय ने लगाया चार्ज

बैंक अधिकारी पर फर्जी दस्तावेज तैयार करने का आरोप, न्यायालय ने लगाया चार्ज

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता| श्रीगंगानगर

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्रीगंगानगर ने एक मुकदमे पर सुनवाई करते हुए स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, हॉल बैंक ऑफ इंडिया के तत्कालीन लोन अधिकारी के खिलाफ खाता धारक के फर्जी दस्तावेज तैयार करने पर चार्ज लगाया है। न्यायालय ने आदेश पत्र में लिखा है कि बैंक के अधिकारी सुरेंद्र पाल ने कूटरचित दस्तावेज तैयार कर असल के रूप में काम में लिया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार याचिकाकर्ता विनोबा बस्ती निवासी एडवोकेट गुरमीत टक्कर ने 1 मई 2009 को पुलिस थाना कोतवाली में मुकदमा दर्ज करवाया था। आरोप है कि बैंक के अधिकारियों पर उनके फर्जी साइन से खाते में गड़बड़ के साथ ही फर्जी लोन खाता तैयार करने का मुकदमा दर्ज किया गया। गुरमीत ने न्यायालय को यह भी अवगत कराया कि बैंक प्रबंधन ने उन्हें सरफेसी एक्ट में नोटिस दिया, जबकि लोन खाता एडवांस था। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार याचिकाकर्ता ने न्यायालय को यह भी अवगत कराया कि उन्होंने बैंक से वर्ष 2003 में 5 लाख का लोन लिया था। जिसकी अवधि 2029 थी, लेकिन उन्होंने यह लोन 2013 में ही चुका दिया। लेकिन इसके बावजूद बैंक ने आज तक खाते का सही हिसाब नहीं दिया है। न्यायालय ने बैंक अधिकारी पर धारा 420, 467,468, 471 अाईपीसी में चार्ज लगाया है। मामले में पुलिस ने वर्ष 2011 में चालान बैंक अधिकारी के विरुद्ध चालान पेश किया था।

खबरें और भी हैं...