• Hindi News
  • National
  • मेडिकल कॉलेज का स्ट्रक्चर डिजाइन तैयार, एक सप्ताह में जयपुर से कराएंगे स्वीकृत, जुलाई में शुरू होगा निर्माण कार्य

मेडिकल कॉलेज का स्ट्रक्चर डिजाइन तैयार, एक सप्ताह में जयपुर से कराएंगे स्वीकृत, जुलाई में शुरू होगा निर्माण कार्य

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
1. धरोहर राशि 25 करोड़ में से 21.5 करोड़ जमा, 3.5 करोड़ के लिए अंडरटेकिंग जारी : दानदाता की ओर से 250 करोड़ की लागत से बनने वाले मेडिकल कॉलेज भवन की 10 प्रतिशत धरोहर राशि के रूप में 25 करोड़ रुपए की बैंक गारंटी दी जानी है। इसमें से 21.5 करोड़ की गारंटी दी जा चुकी है। शेष रकम की दानदाता ने अंडरटेकिंग दे दी है।

2. यूआईटी की ओर से स्वीकृत किए गए नक्शे के बदले 55 लाख रुपए शुल्क जमा करवाएं दानदाता : प्रस्तावित कॉलेज के नक्शे को यूआईटी ने एसटीपी बीकानेर से स्वीकृत करवा दिया है। अब इसे दानदाता को साैंपा जाना है। यूआईटी ने 55 लाख रुपए शुल्क जमा कराने का नोटिस जारी किया है। दानदाता ने प्रोसेस अपनाने का कहा है।

3. अब स्ट्रक्चर डिजाइन दानदाता ही स्वीकृत कराकर देंगे जिला प्रशासन को : 4 जून की बैठक में तय हुआ था कि दानदाता 15 जून तक स्ट्रक्चर डिजाइन पीडब्ल्यूडी को सौंप देंगे। पीडब्ल्यूडी इसे जयपुर मुख्यालय से एक सप्ताह में स्वीकृत करवाकर लाएगा। अब तय हुआ है कि दानदाता ही इसे स्वीकृत करवाएंगे। जिला प्रशासन इसमें सहयोग करेगा।

4. प्रस्तावित भवन का निर्माण दानदाता कब शुरू करेंगे ताकि लोगों को विश्वास हो : कलेक्टर ने कहा कि बुधवार को स्ट्रक्चर डिजाइन के निरीक्षण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। यह एक सप्ताह में हर हाल में पूरी करवाई जाएगी। उन्होंने बैठक में दानदाता से पूछा कि इसके बाद निर्माण कब शुरू हो पाएगा। इन सबके लिए दानदाता ने एक सप्ताह का समय मांगा।

आगे क्या...जुलाई के पहले सप्ताह में शुरू होगा निर्माण, 6 माह में 3 साल का होगा काम
दानदाता बीडी अग्रवाल ने बैठक में अधिकारियों को आश्वस्त किया कि स्ट्रक्चर डिजाइन स्वीकृत होने के एक सप्ताह के दौरान हम भवन का निर्माण शुरू कर देंगे। इसके लिए गुड़गांव की बहुत बड़ी बिल्डर्स कंपनी से अनुबंध हो चुका है। कंपनी दिसंबर अंत तक ही भवन का निर्माण एमबीबीएस की तीन वर्षों की क्लासें लगाने जितना कर देगी।

ये फायदा भी...150 सीटें एमबीबीएस की बढ़ेंगी प्रदेश में, मिलेगा सस्ता व बढ़िया इलाज
मेडिकल कॉलेज का निर्माण हमारे लिए गंगनहर की स्थापना जितना ही मायने रखता है। राज्य को 150 सीटें एमबीबीएस की मिलेंगी। ये क्लासें अगस्त 2019 से शुरू हो सकेंगी। श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ और निकटवर्ती पंजाब के लोगों को सस्ता और आसानी से इलाज मिल सकेगा। लाखों लोगों के रुपए बचेंगे और रोजगार सृजित होगा।

श्रीगंगानगर। मेडिकल कालेज निर्माण मामले मेें बैठक करते दानदाता व अधिकारी।

खबरें और भी हैं...