पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • दूसरों को खुश करने के लिए स्वयं का सत्य खोने का महंगा सौदा न करें: संत प्रेम

दूसरों को खुश करने के लिए स्वयं का सत्य खोने का महंगा सौदा न करें: संत प्रेम

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीगंगानगर| ब्राजील से आए संत प्रेम बाबा ने कहा कि आजकल लोग अपने चेहरे पर एक प्रकार का मुखौटा लगाए रखते हैं। वे दूसरों को खुश रखने में लगे रहते हैं ताकि वे उन्हें मान्यता दें। दूसरों को खुश करने में वे स्वयं का सत्य खो देते हैं। यह बहुत महंगा सौदा है। ऐसा न करें। संत प्रेम बाबा शुक्रवार को यहां रिद्धि-सिद्धि एन्क्लेव प्रथम में नितिन अग्रवाल के निवास पर प्रवचन कर रहे थे। उन्होंने अंग्रेजी भाषा में प्रवचन दिए। एक साधिका ने श्रद्धालुओं को इसका हिंदी में अनुवाद करके बताया। बाबा ने कहा कि यदि जीवन में आनंद चाहिए तो अपने आप से पूछें कि कहां है खुशी, इसे कैसे पाऊं। प्रसन्नता तो अपने अंदर का अस्तित्व है। यह आपके अस्तित्व की खुशबू है। इसलिए अपनी ऊर्जा इसमें लगा दें कि मैं कौन हूं। जब आप सच में जो हैं वो हो सकेंगे तो सबकुछ स्वयं से ही होने लगेगा। प्रभु का आशीर्वाद मिलने लगेगा और ईश्वर अपने अंदर महसूस होने लगेंगे। प्रेम बाबा का गुरुवार सुबह शहर में पहुंचे थे। रिद्धि-सिद्धि एन्क्लेव में भक्तजनों ने पुष्प वर्षा कर उनका स्वागत किया। शनिवार को वे स्पैंगल पब्लिक स्कूल में बच्चों की ओर से बनाई गई पेंटिंग का विमोचन एवं स्कूल परिसर में बनी नई बिल्डिंग का उद्घाटन करेंगे। रविवार शाम को दिल्ली रवाना होंगे।

खबरें और भी हैं...