पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • बच्चे ने सरकारी स्कूल छोड़ा तो संस्था प्रधान व शिक्षकों को बताना होगा कारण

बच्चे ने सरकारी स्कूल छोड़ा तो संस्था प्रधान व शिक्षकों को बताना होगा कारण

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर

सरकारी स्कूलों में अगर छात्र ने अचानक स्कूल आना बंद किया तो शिक्षक व संस्था प्रधान को इसका कारण बताना पड़ेगा। इतना ही नहीं मौखिक एवं लिखित रूप से दी जाने वाली सामान्य जानकारियां नहीं, बल्कि तथ्यात्मक बिंदुवार जानकारी देनी होगी। अन्यथा विभाग की ओर से उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। माध्यमिक शिक्षा परिषद ने इस संबंध में निर्देश जारी किए हैं।

जिला शिक्षाधिकारियों को कहा है कि इसकी पूरी रिपोर्ट माध्यमिक शिक्षा परिषद को भेजी जाएगी। शिक्षा विभाग ने राजकीय स्कूलों से बच्चों के पलायन पर अंकुश लगाने के लिए शिक्षकों को इसका जिम्मा सौंपा है। अधिकारियों का कहना है कि माध्यमिक शिक्षा परिषद के पास अध्यापकों के विलंब से आने, सुव्यवस्थित तरीके से नियमित पढ़ाई नहीं कराने या फिर थोड़ी देर पढ़ाकर निकल जाने की शिकायतें मिली थी। इन शिकायतों की बढ़ती संख्या एवं स्कूलों से बच्चों के ड्राप आउट को देखते हुए विभाग ने प्रदेश के सभी जिलों में सर्वे कराया था। सर्वे में बच्चों के स्कूल से गायब होने और बीच में पढ़ाई छोडऩे के कारणों को मुख्य रूप से शामिल किया गया।

जिला शिक्षा अिधकारी शिवराम यादव ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा परिषद ने जिला शिक्षाधिकारियों से बिदुंवत रिपोर्ट मांगी है। सभी शिक्षण संस्थानों में नामांकित एवं ड्राप आउट बच्चों की संख्या एवं स्कूल में पुन: प्रवेश नहीं हो पाने के कारण तथ्य सहित रिपोर्ट जल्द परिषद कार्यालय भेजी जाए। इस कार्य में शिथिलता बरतने वाले संस्था प्रधानों व शिक्षकों की रिपोर्ट भी सम्मिलित करने को कहा गया।

नामांकन में गिरावट रोकने के लिए शिक्षा विभाग का नया कदम, तथ्यात्मक बिंदुवार रिपोर्ट देनी होगी

यह काम करना होगा संस्था प्रधान व शिक्षकों को

शिक्षा अधिकारियों के अनुसार सत्र 2017-18 में पांचवीं, आठवीं व 10वीं में अध्ययनरत सभी विद्यार्थी अगले सत्र में अगली कक्षाओं तक इसी स्कूल में पढ़ाई करें, ऐसी व्यवस्था संस्था प्रधान व शिक्षकों को करनी होगी। इस दौरान बच्चा स्कूल छोड़कर गया तो शिक्षकों को पता करना होगा कि बच्चा कहां गया? किसी अन्य स्कूल में उसने प्रवेश ले लिया तो क्यों? वह स्कूल कहां पर है? आदि बिंदुओं की तथ्यात्मक जानकारी देनी होगी।

खबरें और भी हैं...