पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • ग्राम सुधार समिति ने 2004 में शुरू की थी लड़ाई

ग्राम सुधार समिति ने 2004 में शुरू की थी लड़ाई

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ग्राम सुधार समिति ने 2004 में शुरू की थी लड़ाई

समिति के पूर्व प्रधान डाॅ. सोहन लाल ने बताया कि गांव में बीमारियों के फैलने के कारण ग्राम सुधार समिति गंभीर हो गई थी। 2004 में हाईकोर्ट में केस दायर किया था। 2011 में कोर्ट ने ग्रामीणों के हक में फैसला सुना दिया था।

शिफ्ट करना हो गया था जरूरी

सुरेन्द्र, प्रदीप कुमार, तेजबीर, मनफूल सिंह, रामकुमार, सेवा राम आदि ने बताया कि थर्मल प्लांट के लगने से पहले सब कुछ सामान्य था। प्लांट लगने के बाद यहां पानी का जलस्तर बढ़ गया था, लेकिन प्रदूषण के कारण पीने का पानी दूषित हो गया।

खबरें और भी हैं...