• बेरोजगार हुए प्रेरकों ने बैठक में आंदोलन का निर्णय लिया
--Advertisement--

बेरोजगार हुए प्रेरकों ने बैठक में आंदोलन का निर्णय लिया

तिल्दा-नेवरा| साक्षर भारत कार्यक्रम के अंतर्गत दस सालों से कार्यरत प्रेरक आज बेरोजगार हो चुके हैं। ग्राम...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 04:00 AM IST
तिल्दा-नेवरा| साक्षर भारत कार्यक्रम के अंतर्गत दस सालों से कार्यरत प्रेरक आज बेरोजगार हो चुके हैं। ग्राम पंचायतों में प्रेरक शासन की सभी योजनाओं का क्रियान्वित करते हैं, लेकिन शासन ने कार्यक्रम बंद कर दिए हैं। शासन के इस दमनात्मक रवैये से उनको दर-दर की ठोकर खाने पड़ रही हैं। रायपुर जिला के प्रेरक संघ उपाध्यक्ष भरत वर्मा ने बताया कि शासन ने 2013 के विधानसभा चुनाव के घोषणा पत्र में प्रेरकों को शिक्षाकर्मी में संविलियन करने का वादा किया था, जो आज तक पूरा नहीं किया गया है, इसलिए प्रेरक संघ द्वारा उग्र आंदोलन करने के लिए खरोरा के पुष्प वाटिका में बैठक रखी गई, जिसमें प्रेरक संघ के वरिष्ठ सदस्य बरातू वर्मा व सचिव अशोक यादव, उपाध्यक्ष तिल्दा-नेवरा, मया कुमार, गनपत कोसले, मुकेश साहू, संजय वर्मा सहित बड़ी संख्या में प्रेरक उपस्थित थे।