पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 8 लोगों का गिरोह आया था नकली नोट चलाने फुटेज में दिखे, पकड़ने सिवनी गई पुलिस टीम

8 लोगों का गिरोह आया था नकली नोट चलाने फुटेज में दिखे, पकड़ने सिवनी गई पुलिस टीम

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कैमरे में कैद सिवनी के युवक।

अिभलाषा कॉलोनी के पास कार-वैन भिडंत में जो छह लोग घायल हुए थे वे ही थे गिरोह के सदस्य

हादसे के बाद जिला अस्पताल से भाग गए थे

दोनों घटनाओं के तार नहीं जोड़ पाई पुलिस

भास्कर संवाददाता | उज्जैन

शहर में नकली नोट चलाने के लिए सिवनी से नाबालिग और अकाउंटेंट अकेले नहीं आए थे बल्कि आठ लोगों का गिरोह यहां पहुंचा था। सावन मास में वे यहां रुककर नकली नोट चलाने वाले थे। भोजनालय संचालक ने नकली नोट देख पुलिस को सूचना दे दी थी। इसके बाद भोजनालय से छह युवक पैदल भाग निकले थे और किराए से टैक्सी कर देवास जा रहे थे। उनकी तेज रफ्तार कार वैन से जा भिड़ी और दोनों गाड़ियों के ड्राइवर की मौत हो गई थी। उसमें सवार छह युवक को मामूली चोट आने पर अस्पताल में भर्ती किया था लेकिन रात में ही सभी युवक अस्पताल से फरार हो गए थे।

महाकाल की सवारी और श्रावण मास में चलाने आए थे नकली नोट

मास्टर माइंड रिमांड पर, बोला- प्लानिंग फेल हो गई

मास्टर माइंड सिसौदिया पांच दिन के रिमांड पर है। महाकाल थाना पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। आरोपी ने स्वीकारा कि सावन महीने में नकली नोट चलाने के इरादे यहा साथियों के साथ आया था लेकिन प्लानिंग फेल हो गई। कम से कम आठ-दस दिन यहां रूककर नकली नोट चलाते। इसीलिए कलर प्रिंटर भी साथ लेकर आया था।

नकली नोट मामले में पुलिस ने अधूरा खुलासा किया। जबकि सच्चाई यह है कि सिवनी निवासी अकाउंटेंट राम सिसौदिया और नाबालिग के साथ छह युवक और भी शामिल थे। महाकाल मंदिर के समीप स्थित भोजनालय संचालक के यहां लगे सीसीटीवी कैमरे में सभी आरोपी कैद है। घटना वाले दिन भोजनालय पर नाबालिग के साथ छह अन्य युवकों ने भी खाना खाया था। नकली नोट की पोल खुलने से सभी युवक नाबालिग को छोड़कर भाग निकले थे। दरअसल देवासरोड पर अभिलाषा कॉलोनी के समीप 30 जुलाई की रात जिस कार की वैन से भिड़ंत हुई थी। उसमें यहीं युवक सवार थे। नागझिरी पुलिस हादसे के बाद सिवनी के सभी युवकों को जिला अस्पताल में भर्ती किया था लेकिन युवक पकड़े जाने के डर से अस्पताल से भी भाग गए थे। उक्त युवक भी नकली नोट चलाने वाले गिरोह में शामिल थे। पुलिस अधिकारियों ने यह बात स्वीकारी और फरार युवकों की तलाश में टीम को सिवनी भेजना बताया है।

गिरोह में शामिल सभी पकड़ाएंगे

नाबालिग के साथ घटना वाले दिन छह युवक साथ थे वे भाग गए। नकली नोट चलाने में उनकी लिप्तता है या नहीं यह तो उनके पकड़े जाने के बाद पता चलेगा। तलाश में टीम को लगाया है। मामले में तह तक पता करेंगे। अन्य लोग शामिल है तो वे भी बचेंगे नहीं। आईपीएस अभीजित रंजन, एएसपी सिटी

खबरें और भी हैं...