पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • इंडस्ट्रियल एरिया से रोज निकलते हैं कई अधिकारी उन्हें नहीं दिखते यहां गड्ढे व कीचड़ से बिगड़े हालात

इंडस्ट्रियल एरिया से रोज निकलते हैं कई अधिकारी उन्हें नहीं दिखते यहां गड्ढे व कीचड़ से बिगड़े हालात

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के औद्योगिक इकाइयों से सरकार को टैक्स के रूप में करोड़ों का रेवेन्यू मिलता है। इसके बाद भी यहां की सड़कें की हालत बद से बदत्तर हो गई है। पानी निकासी की व्यवस्था पूरी तरह से ठप है। शहर के आम लोग ही नहीं क्षेत्र में स्थित कई विभागों के अधिकारी भी यहां की टूटी व कीचड़ से भरी सड़कों से निकलते हैं, लेकिन शायद उन्हें सड़कों की यह हालत दिखाई नहीं देते। इसी कारण से यहां पर सुधार नहीं हो पा रहा है। कुछ यही व्यथा क्षेत्र के उद्योगपति बयान कर रहे हैं।

शहर के बीच इंडस्ट्रियल एरिया के विकास का जिम्मा एचएसडीसी के ऊपर है, लेकिन बीते एक वर्ष से यहां की सड़कों पर कोई काम नहीं कराया गया। सड़कें पूरी तरह से टूट चुकी हैं। हालात ये है कि सड़कों पर दस से 12 फीट चौड़े गड्ढे बन गए हैं। यहीं नहीं कई जगह पानी की निकासी न होने से सड़कें कीचड़ के तालाब में तब्दील हो रहीं हैं।

यहां सैकड़ों औद्योगिक इकाइयां, सब्जी व मीठ मंडी सहित कई विभागों के दफ्तर भी हैं : इंडस्ट्रियल एरिया में प्लाईबोर्ड व प्लाईवुड सहित अन्य सैकड़ों औद्योगिक इकाइयां हैं। यही नहीं सब्जी मंडी व मीठ मंडी, मत्स्य, अग्निशमन, खाद्य एवं आपूर्ति, जनस्वास्थ्य एवं जलापूर्ति अभियांत्रिक विभाग, उद्योग विभाग, माइनिंग विभाग सहित अन्य आफिस हैं। इस कारण रोज यहां शहर के हजारों लोगों का आना जाना रहता है। विभागीय अधिकारी भी आते-जाते हैं। जिन्हें क्षेत्र की टूटी व कीचड़ से भरी सड़कों की परेशानी से दो-चार होना पड़ रहा है।

यमुनानगर | इंडस्ट्री एरिया की खस्ताहाल सड़कों पर जमा पानी।

गड्ढों में तब्दील सड़कें : निपुण गर्ग
उद्योगपति निपुण गर्ग ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र की सड़कों की लंबे समय से मरम्मत नहीं की गई है। सड़कें पूरी तरह गड्ढों में तब्दील हो चुकी है। यह हालात तब है, जब यहां की औद्योगिक इकाइयों से सरकार को टैक्स के रूप में करोड़ों का रेवेन्यू होता है। सड़कों से हर वक्त हादसे की आशंका रहती है, ऐसे में एचएसडीसी को सड़कों की मरम्मत की जानी चाहिए।

बारिश के दिनों में स्थिति ज्यादा खराब : अंकित
उद्योगपति अंकित गोयल ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र में बारिश के दिनों में सड़कें तालाब में तब्दील हो जाती हैं। यहां से पैदल निकलना भी गुजरना मुश्किल हो जाता है। बड़े-बड़े गड्ढे हादसों का कारण बनते हैं और आवागमन में परेशानी होती है। कई बार तो वाहन धंस जाते हैं। वाहनों की अधिक आवाजाही के कारण यह सड़कें जल्दी खराब हो जाती हैं।

गड्ढों में दो बार गिरकर हुई चोटिल : ममता
इंडस्ट्रियल एरिया में काम करने वाली ममता ने बताया कि वह यहां की सड़कों पर बने गड्ढों के कारण दो बार गिरकर चोटिल हो चुकीं हैं। एक बार वह एक्टिवा तो एक बार पैदल चलते वक्त गिर गई थी। प्रशासन को चाहिए कि सड़कों की दशा में सुधार करे।

खबरें और भी हैं...