--Advertisement--

लोगों की सुरक्षा के लिए किरायेदारों की वेरिफिकेशन जरूरी

जीरकपुर में इस समय हजारों की संख्या में फ्लैट खरीदकर लोग किराये पर दे रहे हैं। उनमें कौन रह रहा है। इसकी जानकारी...

Danik Bhaskar | May 29, 2018, 02:05 AM IST
जीरकपुर में इस समय हजारों की संख्या में फ्लैट खरीदकर लोग किराये पर दे रहे हैं। उनमें कौन रह रहा है। इसकी जानकारी पुलिस को नहीं है। क्योंकि अधिकतर फ्लैट्स होल्डर किरायेदार की वेरिफिकेशन नहीं कराते। अपने स्तर पर जांच पड़ताल कर किराये पर दे देते हैं। इससे पता नहीं चलता कि कौन क्या कर रहा है। क्रिमिनल है या नहीं। इसकी पूरी जानकारी नहीं मिलती है। खासकर फ्लैट्स में ऐसा हो रहा है। क्योंकि क्रिमिनल्स किसी घर में रहने के बजाए अपार्टमेंट्स में किराये पर रहना पसंद करते हैं। जीरकपुर पुलिस ने शहर में कुछ जगह पर किरायेदारों की चेकिंग की। एसएचओ पवन ने कहा कि शहर में अधिकतर लोग किरायेदार रखने पर उनकी पुलिस वेरिफिकेशन नहीं करा रहे है। इसलिए पहले भी कई लोगों के खिलाफ केस दर्ज किए गए हैं। अब आगे भी ऐसा न करने पर केस दर्ज किए जाएंगे। यह पब्लिक की सुरक्षा के लिए है। अगर कोई ऐसा संदिग्ध व्यक्ति यहां किराए किसी अपार्टमेंट में रहता हो। उसके बारे में पता नहीं तो यह पब्लिक के हित के लिए ठीक नहीं है। वहीं पब्लिक का कहना है कि केस दर्ज करने से पहले पुलिस को यहां वेरिफिकेशन के लिए सहुलियत ताे दे। जीरकपुर से 8 किलोमीटर दूर मुबारकपुर में पुलिस सेवा केंद्र है। वहां लोगों को वेरिफिकेशन के लिए जाना पड़ता है। जीरकपुर में रोजाना नए लोग रहने के लिए आ रहे हैं। कोई घर या फ्लैट खरीदकर यहां रहने आ रहा है तो कोई यहां बने अपार्टमेंट्स में किराए पर रहने के लिए आ रहा है। यहां बन चुकी और बन रही रेजिडेंशियल कॉलोनियां, अपार्टमेंट में लगातार नए लोग आ रहे हैं। इस कारण पुलिस के लिए यहां वेरिफिकेशन जरुरी हो गया है। हो सकता है कि यहां कोई वारदात करने के बाद रहने आया हो।