Hindi News »Chandigarh Zilla »Mohali »Zirakpur» बनूड़ के 12 से ज्यादा गांवों को जोड़ने वाला झांसला-फरीदपुर पुल गिरने की कगार पर

बनूड़ के 12 से ज्यादा गांवों को जोड़ने वाला झांसला-फरीदपुर पुल गिरने की कगार पर

बनूड़ क्षेत्र में नए पुल बनाने के लिए विधायक हरदयाल कंबोज की ओर से जोर शोर से शिलान्यास किए जा रहे हैं, लेकिन पुराने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 10, 2018, 02:05 AM IST

बनूड़ के 12 से ज्यादा गांवों को जोड़ने वाला झांसला-फरीदपुर पुल गिरने की कगार पर
बनूड़ क्षेत्र में नए पुल बनाने के लिए विधायक हरदयाल कंबोज की ओर से जोर शोर से शिलान्यास किए जा रहे हैं, लेकिन पुराने पुलों की हालत सुधारने पर ध्यान नहीं दिया जा रहा। दर्जनों गांवों को जोड़ने वाले झांसला-फरीदपुर पुल की हालत काफी खस्ता हो चुकी है। यह पुल कभी भी गिर सकता है। लोगों का कहना है कि पुल की हालत न सुधारने के मामले में राजनेता सिर्फ राजनीति चमकाने के चक्कर में रहते हैं। विधायक ने इस पुल का नवनिर्माण करवाने का वादा किया था, जो पूरा नहीं किया गया।

हाईवे से डेढ़ किलोमीटर दूर है पुल: पच्ची दर्रा यानी चोआ नदी पर स्थित झांसला-फरीदपुर पुल जीरकपुर-राजपुरा मेन हाईवे से डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर है। यह पुल गांव हुलका, फरीदपुर, नडियाली से खेड़ा गज्जू जैसे कसबे समेत दर्जनों गांवों को वाया झांसला बनूड़ और राजपुरा शहरों के साथ कनेक्टिविटी का एकमात्र जरिया है। करीब 15 किलोमीटर के दायरे के गांवों के लोग इसी पुल को इस्तेमाल करते हैं।

एस्टीमेट पास कराना बाकी: पंजाब मंडी बोर्ड के जेई अमनवीर सिंह ने कहा कि यह पुल काफी समय से ऐसा है। पुल का काम पंजाब लेवल के प्रोजेक्ट में है। पुल की ड्राइंग वगैरा का काम कंप्लीट है। पुल का एस्टीमेट पास करवाना बाकी है। काम जल्दी शुरू होने की संभावना है।

किसान नेता बलवंत सिंह नडियाली ने कहा कि झांसला-फरीदपुर पुल नडियाली साइड की तरफ स्थित गांवों के लोगों की बनूड़ और राजपुरा जैसे शहरों के साथ कनेक्टिविटी का मुख्य साधन है। किसान इस पुल के जरिये ही अपनी फसल को जलालपुल और राजपुरा की मंिडयों में पहुंचाते हैं। रोजमर्रा के काम करने के लिए लोग इस पुल का सहारा लेते हैं। जबकि यहां से गुजरना खतरे से खाली नहीं।

गांव फरीदपुर के अमरजीत सिंह ने कहा कि इस पुल को बनाने के लिए कई बार प्रशासन को अपील कर चुके हैं, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। हलका विधायक ने भी ऐलान किया था कि जनवरी में पुल को बनाने का काम शुरू हो जाएगा लेकिन कुछ नहीं हुआ।

पब्लिक बोली-कनेक्टिविटी का मुख्य साधन

पंचायत मेंबर राजपाल सिंह ने कहा कि झांसला-फरीदपुर पुल की तरफ ध्यान नहीं दिया जा रहा। कुछ दिन पहले विधायक ने जांसली-नडियाली के पुल का शिलान्यास किया था, जबकि इस पुल को सुधारने के लिए कई बार उनसे मिला जा चुका है, लेकिन कुछ नहीं हुआ।

गांव फरीदपुर के रहने वाले सोनू ने कहा कि पुल से भारी भरकम वाहन गुजरते हैं। जिस कारण पुल कभी भी टूट सकता है। लंबे समय से पुल को दोबारा बनाने की मांग की जा रही है, लेकिन कुछ नहीं हो रहा। अगर ऐसा ही रहा तो जल्द ही सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा।

खस्ता हो चुके हैं पुल के पिलर

पुल के मेन पिलर खस्ता हो चुके हैं। पिलर के ऊपर बाहर की साइड वाला एक हिस्सा टूट चुका है और दूसरी साइड बड़ी दरार है। पुल के किनारे बुरी हालत में हैं। लोगों ने कहा कि पुल के बीचोंबीच सड़क की स्लैब धंस चुकी है। यहां बरसाती पानी से गंदगी भी बड़े स्तर पर जमा हो रखी है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Zirakpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×