• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Zirakpur
  • बूंद-बूंद पानी को तरसे नगला के लोग, कहा- एमसी में आने के बाद उनके साथ हुआ धोखा
--Advertisement--

बूंद-बूंद पानी को तरसे नगला के लोग, कहा- एमसी में आने के बाद उनके साथ हुआ धोखा

जीरकपुर के नगला एरिया में पानी की गंभीर समस्या पैदा हो गई है। हालत इतने खराब हो गए हैं कि यहां के सैकड़ों परिवारों को...

Danik Bhaskar | Jun 21, 2018, 02:05 AM IST
जीरकपुर के नगला एरिया में पानी की गंभीर समस्या पैदा हो गई है। हालत इतने खराब हो गए हैं कि यहां के सैकड़ों परिवारों को पानी के लिए घर से करीब एक से डेढ़ किलोमीटर दूर खेतों में जमीन को पानी देने के लिए लगाए गए ट्यूबवेल से पानी के ड्रमों में भरकर ट्रैक्टर ट्राली में लादकर घर तक लाना पड़ रहा है। जिनके पास यह सुविधा है वे तो किसी तरह से गुजारा कर रहे हैं। लेकिन, जिनके पास वाहन की सुविधा नहीं है, वह लोग पानी के लिए तरस रहे हैं। यहां नगला में पब्लिक हेल्थ विभाग का लगाया ट्यूबवेल जीरकपुर एमसी को हैंडओवर कर दिया गया था। 5 दिन पहले उसकी एक वायर भी जल गई थी। जिसे ठीक जीरकपुर एमसी ने करना था, पर एमसी यहां पानी की इतनी किल्लत के बाद भी पब्लिक की समस्या सुनने को तैयार ही नहीं है।

वहीं, 500 परिवारों ने एमसी पर आरोप लगाया है कि उनके साथ धोखा हुआ है। जीरकपुर एमसी में शामिल होने के बाद इस गांव की सड़कें व अन्य जमीनों पर एमसी की नजर तो है, पर गांव के हित के लिए यहां कुछ भी नहीं किया जा रहा है। यह शहर के बीच में बसा हुआ गांव है। इसमें तमाम बुनियादी सुविधाएं देने की जरूरत है।

गांव के लोगों ने एमसी के खिलाफ जताया रोष

यहां के निवासियों ने बुधवार को सड़क पर जमा होकर जीरकपुर एमसी के खिलाफ रोष जताया है। यहां गांव एमसी में शामिल कर दिया गया है, पर इसमें अभी शहर जैसी सुविधाएं नहीं दी जा रही हैं। यहां के निवासी व पूर्व सरपंच तेजिंदर सिंह ने कहा कि इस ट्यूबवेल का बिजली का कई महीनों का बिल भी करीब 3 लाख है। जो गांव के लोगों को भरना है, पर न तो यहां बिल लिया जा रहा है और न ही इसकी मेंटेनेंस की जा रही है। ऐसे हालत में लोग अब सड़कों पर विरोध के लिए आने लगे हैं। वहीं, लोगों ने यह भी कहा कि एमसी में गांव को लेने से पहले अफसरों ने सुविधाओं को ठीक से क्यों नहीं जांचा।