Hindi News »Chandigarh Zilla »Mohali »Zirakpur» िनजी फायदे के लिए नालों का दायरा समेटकर कर दिया तंग

िनजी फायदे के लिए नालों का दायरा समेटकर कर दिया तंग

जब बाड़ ही खेत को खाने लगे तो वह सुरक्षित कैसे रहेगा। ऐसा ही हाल यहां जीरकपुर मंे नालों को लेकर है। यहां नालों के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 16, 2018, 02:15 AM IST

िनजी फायदे के लिए नालों का दायरा समेटकर कर दिया तंग
जब बाड़ ही खेत को खाने लगे तो वह सुरक्षित कैसे रहेगा। ऐसा ही हाल यहां जीरकपुर मंे नालों को लेकर है। यहां नालों के कुदरती स्वरुप को पूरी तरह से मनमाने तरीके से तंग कर दिया गया है। जो नाले कभी 40 फुट तक की चौड़ाई वाली जगह से बहते थे। उनको 4 फुट की सीमेंट की ड्रेन में डालने की पूरी कोशिश है। इसीलिए यहां ढकौली की एमएस एनक्लेव में 5 दिनों तक पब्लिक गंदे पानी से झूझती रही। यह सब ड्रेनेज विभाग और जीरकपुर एमसी के अधिकारियों की मिलीभगत से हो रहा है। अगर नहीं हो रहा है तो यह हाल क्यों है। यहां ढकौली में ओल्ड अंबाला रोड पर करीब दो किलोमीटर के दायरे में नाले का क्या हाल हो गया है। क्या यह ड्रेनेज विभाग के अधिकारियों को नजर नहीं आता है।

पानी का बहाव रुक रहा अवैध कब्जों से: ढकौली के दशेमश एनक्लेव में रहने वाले लेखक फूलचंद मानव की लंबे समय से शिकायत है कि उनके घर के पीछे किसी समय खुल नाला बहता था। पानी के बहाव में किसी प्रकार की रुकावट नहीं थी।

अब यहां नाले को मकानों के नीचे गायब कर दिया है। बिल्डर माफिया। जीरकपुर एमसी के अधिकारियों के सरक्षण और ड्रेनेज विभाग के अधिकारियों की सरपरस्ती में यह सब हुआ है। अगर इन सबके सरक्षंण में यह सब नहीं हुआ है तो मौके पर आकर बताएं कि यहां नाला कहां गया। यहां प्रशासन के कामों को देखकर पता चलता है कि अधिकारी किस स्तर पर अपनी जिम्मेदारी निभाते हैं।

लापरवाही

एमएस एनक्लेव में सीवरेज जाम होने जैसे हालत हुए, ड्रेनेज विभाग के अधिकारियों की जिम्मेदारी बनती है कि वे इस तरह के निर्माण को होने न दें

शहर का हाल सुधारने का जिम्मा किस पर

ड्रेनेज विभाग के अधिकारियों को नजर आता तो है पर उनकी नजरों पर किसी और कारण पट्टी बंधी है। यह कई साल से खुल नहीं रही है। इसलिए हमारे घरों के आगे सीवरेज का पानी जमा हो जाता है। लोकल बाॅडीज विभाग हो या ड्रेनेज विभाग के अधिकारी सरकार से पता नहीं किस बात की सैलरी ले रहे हैं। यह बात हमारी समझ नहीं आती है। शहर का हाल सुधारने का जिम्मा जिनके ऊपर है, वहीं इसको बर्बाद करने पर तुले हुए हैं।

-कमल शर्मा, निवासी एमएस एनक्लेव

एमसी के अधिकारियों को सख्त निर्देश हैं कि बिना नक्शा पास किए किसी प्रकार का निर्माण न होने दें। अगर कहीं गलत हो रहा है तो उसकी शिकायत करने का पब्लिक को अधिकार है। अधिकारी इसका जवाब दें। जीरकपुर एमसी इस पर रिपोर्ट तैयार करेगी।

-कुलविंदर सोही, प्रधान एमसी जीरकपुर

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Zirakpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×