• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Zirakpur
  • जीरकपुर में हर साल बढ़ रहे स्ट्रे डॉग्स के केस, इनसे बचाने के नहीं है इंतजाम
--Advertisement--

जीरकपुर में हर साल बढ़ रहे स्ट्रे डॉग्स के केस, इनसे बचाने के नहीं है इंतजाम

जीरकपुर| जीरकपुर एमसी हाउस की मीटिंग में हर साल कई बार होती है। पिछले 15 सालों से यहां न जाने कितनी ही मीटिंग्स हुई...

Danik Bhaskar | Jun 20, 2018, 02:15 AM IST
जीरकपुर| जीरकपुर एमसी हाउस की मीटिंग में हर साल कई बार होती है। पिछले 15 सालों से यहां न जाने कितनी ही मीटिंग्स हुई हैं, पर एक बार भी स्ट्रे डॉग्स को कम करने के लिए संजीदगी से बात नहीं की गई। यहां भी कई बच्चे स्ट्रे डॉग्स के शिकार बने हैं। शहर में बढ़ रहे स्ट्रे डॉग्स को कम करने पर एक भी काम नहीं हुअा है। पिछले दिनों यहां बलटाना के पंजाब मॉडर्न एन्क्लेव के मकान नं 119 में रहने वाली मीनाक्षी की 15 साल की बेटी प्रियंका को स्ट्रे डाॅग ने बुरी तरह से काट लिया था। उससे पहले उनकी 10 साल की छोटी बेटी हिया को भी स्ट्रे डॉग्स ने काट लिया था। दोनों बेटियों काे अब घर से निकलने में बहुत डर लगता है। ऐसे कई बच्चे हैं जो डॉग्स के कारण घर से बाहर ही नहीं आते हैं।

क्यों होर रही लापरवाही: पकड़ने के लिए कोई गाड़ी नहीं है व ना ही स्टरलाइजेशन के लिए कोई इंतजाम है। इनकी संख्या कम करने व इन्हें शहर से दूर ले जाने के लिए कोई काम नहीं हुआ है। एमसी हाउस में एजेंडा ले जाने का काम एक्जीक्यूटिव ऑफिसर का है। क्यों कि स्ट्रे डॉग्स की जो भी शिकायतें लोगों द्वारा की जाती हैं, वह ईओ के पास ही जाती हैं। इन शिकायतों के आधार पर उनको एजेंडा बनाकर एमसी हाउस की मीटिंग में रखना था। तब उसे पास कर इस पर काम किया जाना था। ईओ ने अब तक एजेंडा ही नहीं बनाया है।

शहर के स्ट्रे डॉग्स के लिए कोई एजेंडा ही नहीं बनाया