• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Zirakpur
  • पार्षद बोले- शहर में बनाई जा रही बिल्डिंगों के नक्शे पास करने में लापरवाही बरत रहे अफसर
--Advertisement--

पार्षद बोले- शहर में बनाई जा रही बिल्डिंगों के नक्शे पास करने में लापरवाही बरत रहे अफसर

वीरवार दोपहर बाद जीरकपुर एमसी हाउस मीटिंग में पार्षदों ने अफसरों पर गंभीर आरोप लगाए। कई पार्षदों ने कहा कि एमसी के...

Danik Bhaskar | Jun 01, 2018, 02:20 AM IST
वीरवार दोपहर बाद जीरकपुर एमसी हाउस मीटिंग में पार्षदों ने अफसरों पर गंभीर आरोप लगाए। कई पार्षदों ने कहा कि एमसी के बिल्डिंग ब्रांच के अफसर की यहां अवैध निर्माण करने वालों के साथ सांठगांठ रखते हैं। इसलिए कोई अवैध निर्माण नहीं रुक रहा है। मीटिंग में कुछ वे लोग भी अपनी शिकायत लेकर पहुंचे जिन्होंने गलत निर्माण को रोकने के लिए डीसी को लिखा। पर इसके बाद भी एमसी के अफसरों ने कार्रवाई नहीं की। वीआईपी रोड पर ओजस ग्रेंड के मामले में एमसी के अधिकारियों के काम पर सवाल उठाए गए। यहां लोगों ने कहा कि ओजस ग्रेंड एक हाउसिंग प्रोजेक्ट है। इसको बदल कर कमर्शियल बिल्डिंग बना दी गई। इसे रोकने के लिए रोजाना कहने के बाद भी काम नहीं रुक रहा है। इसका क्या मतलब है। इस हाउसिंग प्रोजेक्ट्स में फ्लैट्स बनाने का नक्शा पास किया गया था। आज ओजस ग्रेंड की जगह दुकानें बन रही हैं। इस प्रोजेक्ट्स में फ्लैट्स बुक करने वाले मोहाली निवासी अभिजीत सिंह ने कहा कि एमसी अफसरों की मदद से यह सब हा़े रहा है, इसकी जांच की जाए।

अंदर मीटिंग में दुबक कर बैठे रहे अफसर बाहर आकर खिलखिलाते हंसते रहे : शहर में गलत तरीके से नक्शा पास करने के लिए मीटिंग में चुपचाप खरी खोटी सुनने के बाद मीटिंग खत्म होने के बाद बाहर आए एमसी के अधिकारी अपनी गलतियां सुधारने के लिए गंभीर होने की जगह खिलखिलाते हंसते रहे। लोगों ने कहा कि यहां के अफसर अब इतने लापरवाह हो गए हैं कि उन पर कोई असर नहीं पड़ता है।

मीटिंग में विकास के काम पर कोई एजेंडा नहीं तैयार किया अफसरों ने : इस एमसी हाउस की मीटिंग में शहर की डेवलपमेंट काे लेकर कोई खास बात नहीं हुई। इसलिए यह मीटिंग शहर के हित के लिए इतनी ही ठीक रहीं कि अफसरों के काम पर कुछ बातें सामने आई।

एनके शर्मा ने सोही से कहा- अवैध निर्माण की जांच करें

विधायक एनके शर्मा ने अधिकारियों को आड़े हाथों लिया। कुछ पार्षदों ने यहां तक कहा कि एमसी के अधिकारी पैसे लेकर गलत निर्माण करवा कर शहर का भट्टा बैठा रहे हैं। मीटिंग में कई अन्य हाउसिंग प्रोजेक्ट को लेकर पार्षदों ने शिकायत की। कहा कि एमसी के अधिकारियों की मनमानी के कारण यहां लोग मकान दुकान या कोई भी निर्माण नक्शे के अनुसार नहीं है। शर्मा ने एमसी प्रधान कुलविंदर सोही से कहा कि जो भी निर्माण गलत तरीक से बिना नक्शे पास करवाए हो रहा है। जिन बिल्डिंग के नक्शे दोबारा तैयार कर पास किए जा रहे हैं। उनकी जांच कराओ। शर्मा ने कहा कि यहां वीआईपी रोड पर पार्किंग की जगह डिस्को खोलने की परमिशन यहां के एमसी के अधिकारियों ने ही दी है, यह तो हद हो गई।

इम्पीरियल गार्डन की बिल्डिंग गिरने के मामले में सरकार की कार्रवाई पर उठाए सवाल

इस मीटिंग के दौरान पीरमुछल्ला में इंपीरियल गार्डन की बिल्डिंग गिर जाने के मामले को लेकर लोकल बाॅडीज मिनिस्टर नवजोत सिंह सिद्धू की कार्रवाई पर भी सवाल उठाए गए। एमसी प्रधान कुलविंदर सोही ने हंसते हुए कहा कि जिस कर्मचारी ने जीरकपुर में सिर्फ 15 दिन काम किया है उसे ही सस्पेंड कर दिया गया। इसके अलावा दो अन्य को सस्पेंड किया गया। उसमें एक यहां कुछ महीने रहा। जिसके गले में घंटी बांधी जा सकती थी। बांध दी गई। यह हैरानी करने वाली कार्रवाई है।