--Advertisement--

स्विमिंग से ज्यादा फिटनेस देता है पानी में किया गया वर्कआउट

आरती एम अग्निहोत्री | चंडीगढ़ अकसर कहा जाता है कि कम समय में फिट होना है तो स्विमिंग करो। पर बहुत कम लोगों को पता है...

Dainik Bhaskar

Jun 11, 2018, 03:10 AM IST
स्विमिंग से ज्यादा फिटनेस देता है पानी में किया गया वर्कआउट
आरती एम अग्निहोत्री | चंडीगढ़

अकसर कहा जाता है कि कम समय में फिट होना है तो स्विमिंग करो। पर बहुत कम लोगों को पता है कि पानी में सिर्फ स्विमिंग ही नहीं, बल्कि बॉडी को फिट रखने वाली दूसरी एक्सरसाइज भी की जा सकती हैं। हालांकि पानी में वर्कआउट करना मुश्किल तो होता है पर इसका असर जल्दी ही बॉडी पर दिखने लगता है। ग्लोबल वैलनेस डे के मौके पर मंगलवार को सेक्टर-35 के होटल जेडब्ल्यु मैरिएट के पूल में एक्वा फिटनेस इंस्ट्रक्टर पूजा अरोड़ा का फिटनेस सेशन हुआ। इसमें इंडियन हॉकी प्लेयर हरजीत सिंह के साथ-साथ शहर के कई यंगस्टर्स ने हिस्सा लिया। इवेंट का मकसद पानी में फिटनेस एक्सरसाइज को लेकर लोगों को जागरूक करना था। ताकि अधिक-से-अधिक लोगों को पूल में वर्कआउट के लिए प्रेरित किया जाए। यह पूरे शरीर के लिए बेहतरीन वर्कआउट माना जाता है।

पूजा ने वाटर वर्कआउट और दूसरे खिलाड़ियों को इससे होने वाले फायदों के बार में बताया। बोलीं- स्विमिंग जमीन पर खेलने वाले प्लेयर्स के लिए अच्छी है। इससे वो ऐसे वर्कआउट कर सकते हैं, जो उनके जोड़ों और कार्डियोवेस्कुलर सिस्टम के लिए बेहतर हों।

 मैंने पहली बार एक्वा फिट सेशन में हिस्सा लिया। इस दौरान स्पीड, कंडीशनिंग, बैलेंसिंग और स्टैमिना को बेहतर बनाने पर काम किया । पहले मुझे लगा कि पानी में वर्कआउट नॉर्मल होगा। पर यह मुश्किल था। 15 मिनट में ही लगा जैसे बहुत वर्कआउट कर लिया। यह वर्कआउट मुझे मसल्स के खिंचाव या चोट की चिंता किए बगैर कड़ी ट्रेनिंग में मदद करेगा।  हरजीत सिंह, नेशनल हॉकी प्लेयर

एक्सरसाइज की तुलना में ज्यादा मुश्किल है एक्वा फिट

फिटनेस के सभी एलिमेंट्स इसमें शामिल

वाटर वर्कआउट में फिटनेस के सभी एलिमेंट्स होते हैं। इसमें पेशियों की ताकत, कार्डियोवेस्कुलर फिटनेस, स्टेमिना और फ्लेक्सिबिलिटी शामिल है। ये वर्कआउट बॉडी में फैट की मात्रा भी घटाते हैं। आपकी उम्र या फिटनेस का स्तर चाहे जो हो, आपको पूल में एक बेहतरीन वर्कआउट मिलता है।

भारत में धीरे-धीरे बढ़ रहा है रूझान

पूजा बेंगलुरू से हैं। बताती हैं- बचपन से ही मैं ओबीज थी। 15 साल की उम्र में मेरा वजन 80 किलो था। 30 की उम्र में जब घुटनों का ऑप्रेशन हुआ, तो डॉक्टर ने कहा- वजन कम नहीं किया तो 50 की उम्र में नी रिप्लेसमेंट करना होगा। मैं डर गई। मैंने नेट पर एक्वा फिटनेस के बारे में पढ़ा। भारत में इसका कोई कोर्स नहीं था, इसलिए पहले सिंगापुर से और फिर अलग-अलग जगहों से कोर्स किए। अब मेरा वजन 55 किलो है। पांच साल से यू ट्यूब पर एक्वा फिटनेस की ट्रेनिंग दे रही हूं। पूजा ने बताया- इसमें अनगिनत एक्सरसाइजेज और योगा भी किया जा सकता है। एक्वा फिटनेस डीप और शैलो, दोनों वॉटर्स में होती है।

 हमारा जीरकपुर में जिम हैं और कई सेलिब्रिटीज के पर्सनल ट्रेनर हैं। पहली बार एक्वा फिट का अनुभव किया। यह जिम में एक्सरसाइज की तुलना में ज्यादा मुश्किल है। यहां हमने एब्स, कार्डियो और लेग्स का वर्कआउट किया। जहां दो-दो घंटे हम जिम में एक्सरसाइज करते हैं, वहीं यहां थोड़े से समय में ही थक गए।  वत्स ब्रदर्स

एक्वा फिट के ये फायदे





 मैं जिम में वर्कआउट करती हूं, पर पानी में रेसिस्टेंस ज्यादा होती है। मूवमेंट सीमित और चुनौतीपूर्ण हो जाती हैं। अच्छी बात ये है कि हार्ट रेट ज्यादा हो जाता है और ऐसे में कैलोरीज तेजी से बर्न होती हैं।  प्रिया, आईटी प्रोफेशनल

X
स्विमिंग से ज्यादा फिटनेस देता है पानी में किया गया वर्कआउट
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..