• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Zirakpur
  • एमएस एन्क्लेव के गेट पर बिना बारिश के सड़क सीवरेज के पानी से बनी तालाब
--Advertisement--

एमएस एन्क्लेव के गेट पर बिना बारिश के सड़क सीवरेज के पानी से बनी तालाब

जीरकपुर के ढकोली की एमएस एन्क्लेव के गेट पर रविवार सुबह अचानक पानी भर गया। यहां गेट के पास अंडरग्राउंड नाला ब्लाॅक...

Danik Bhaskar | Jun 11, 2018, 03:10 AM IST
जीरकपुर के ढकोली की एमएस एन्क्लेव के गेट पर रविवार सुबह अचानक पानी भर गया। यहां गेट के पास अंडरग्राउंड नाला ब्लाॅक होने के बाद एक ही जगह मैनहोल से ओवरफ्लो होकर पानी बाहर बहने लगा। पानी इतना ज्यादा था कि पूरे दिन यह रास्ता हजारों परिवारों के लिए बंद करना पड़ा। सिर्फ गाड़ियों में ही लोग यहां से गुजर सके। सीवरेज का गंदा व प्रदूषित पानी पूरे दिन यहां बहता रहा। रात तक ड्रेनेज विभाग ने इस बंद पड़े नाले को खोलने का काम नहीं किया। यह पहली बार नहीं है। ऐसा हर साल हो रहा है। इसके बावजूद ड्रेनेज विभाग इस नाले को खोलने का काम नहीं कर रहा है।

क्यों हो रहा ऐसा: यहां पानी इसलिए ओवरफ्लो हो रहा है कि इस नाले में काफी पानी ममता एन्क्लेव, ग्रीन सिटी, लक्ष्मी एन्क्लेव और पंचकूला के सेक्टर-20 के ट्रीटमेंट प्लांट के अलावा इंडस्ट्रियल एरिया का भी आता है। यहां नाले का कुदरती स्वरूप बंद कर उसको पाइपों में समेट दिया गया है। पानी ज्यादा है, जो पाइपों में मुश्किल से बहता है। अगर बीच में पाइपों में कुछ फंस गया तो सारा पानी सड़क पर आ जाता है।

नालों पर ही लोगों ने बना दिए हैं मकान...

जीरकपुर में ड्रेनेज विभाग की लापरवाही से यहां कई नाले पूरी तरह से लुप्त हो चुके हैं। तब पानी इसी तरह से लोगांे के घरों और रास्तों में होकर गुजर रहा है। यहां नालों की जगह लोगों ने मकान बना दिए हैं। ड्रेनेज विभाग देखकर भी आंखें बंद करता है। इसके पीछे का राज ड्रेनेज विभाग के अधिकारी ही बता सकते हैं। पब्लिक का कहना है कि कम से कम इतनी तो जगह छोड़नी चाहिए। जिससे पानी की निकासी हो सके।


कई बार पानी भरने से आने-जाने में होती है दिक्कत...हमने इसकी शिकायत ड्रेनेज विभाग को कई बार करी है। इसका समाधान नहीं हो रहा है। रविवार को पूरे दिन यहां हजारों परिवारों को अपने घरों को जाने के लिए दूसरे रास्ते तलाशने पड़े। यह ढकोली का ही रास्ता नहीं है, बल्कि यहां से किशनपुरा और पीरमुछल्ला के लोग भी कई बार आते-जाते हैं। सभी इस पानी की वजह से यहां से नहीं जा सके। इसका पक्का समाधान करना होगा। बिना बारिश के यहां यह हाल है तो यही अंदाजा लगाया जा सकता है कि बारिश में कितनी परेशानी यहां के लोगों को उठानी पड़ती होगी। -देवेंदर सिंह, पार्षद ढकोली