--Advertisement--

दिनभर जीरकपुर की कई कॉलोनियों में बिजली कटौती हुई

दिनभर जीरकपुर की कई कॉलोनियों में बिजली कटौती हुई जीरकपुर | बुधवार को को यहां जीरकपुर, बलटाना, ढकौली में कई...

Danik Bhaskar | Jun 14, 2018, 03:10 AM IST
दिनभर जीरकपुर की कई कॉलोनियों में बिजली कटौती हुई

जीरकपुर | बुधवार को को यहां जीरकपुर, बलटाना, ढकौली में कई कॉलोनियों में बिजली कटौती की गई। लोगांे ने पावरकाॅम को शिकायत दी है कि यहां बिजली कटौती क्यों नहीं रुक रही है। ढकौली की ममता एन्क्लेव और आसपास के एरिया में रात को कई घंटे बिजली गुल रही। इस से रात भर लोग परेशान होकर सड़कों पर भी बैठे रहे। ऐसे में ज्यादा परेशानी छोटे बच्चों और बुजुर्गों को हुई। इसके साथ ही बच्चे भी अपनी पढ़ाई रात के समय नहीं कर पाए और बाजार में दुकानदारों के काम भी रूके रहे।

बढ़ती ट्रैफिक समस्या को लेकर रोड पर गाड़ी लगाई तो होगी इम्पाउंड

जीरकपुर | जीरकपुर शहर में ट्रैफिक की समस्या बढ़ती जा रही है। यहां ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों की भरमार है। खासकर यहां सड़क पर गाड़ी खड़ी कर शाॅपिंग करने वालों के कारण ट्रैफिक प्रभावित हो रहा है। ट्रैफिक पुलिस ने कुछ गाड़ियों को इम्पाउंड किया है। नियमों को न मानने वाले कई वाहन चालकों के चालान किए। एक महीने के अंदर 1829 के करीब चालान काटे गए और साथ ही पटाखे मारने वाले बुलेट मोटर साइकिल चालकों के चालान भी काटे गए और 5 के करीब मोटरसाईकल बंद किए गए हैं।

हाईवे के ट्रैफिक के लिए मुसीबत बनी ढाबों पर अवैध पार्किंग

जीरकपुर| जीरकपुर-अंबाला रोड पर कई ढाबों पर रुकने वाले लोग अपनी गाड़ियों को सड़क पर लगाते हैं। ऐसे में हाईवे का ट्रैफिक पूरी तरह से रुक जाता है। यहां चंडीगढ़-अंबाला हाईवे पर रात 8 बजे से लेकर 1 बजे तक खासी भीड़ होती है। शनिवार और रविवार की रात यहां ट्रैफिक के लिए रुकी हुई गाड़ियां खतरनाक भी साबित हो रही हैं।

सीवरेज का पानी सड़क पर बहने से लोगों ने किया ट्रैफिक जाम

सिटी रिपोर्टर |जीरकपुर

ढकौली में ओल्ड अंबाला रोड पर बुधवार शाम यहां सीवरेज के गंदे पानी से परेशान लोगों ने जीरकपुर एमसी के खिलाफ धरना दिया। उसके बाद लोगों ने यहां ढकौली के एमएस एन्क्लेव गेट पर सीवरेज के गंदे पानी से परेशान लोगों ने ट्रैफिक जाम किया। करीब एक घंटे तक इस रोड पर ट्रैफिक जाम रखा। लोगों ने कहा कि यहां पांच दिन से पानी सड़क पर बह रहा है। इसकी निकासी का प्रबंध न करने पर लोगांे ने यहां जीरकपुर एमसी के खिलाफ नारेबाजी की। लोगों ने कहा कि यहां लोग बीमार होने लगे है। दुकानें 5 दिन से बंद हैं। बेसमेंट के अंदर सीवरेज के पानी से दुकानदारों को सामान खराब हो गया। कुछ लोग बीमार तक पड़ने लगे है। इसके बाद भी अधिकारी अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे है।

अधिकारियों को कहा- सिर्फ दो लोग लगे काम पर: गुस्साए लोग सुरिंदर सिंह, मनजीत सिंह, अंग्रेज सिंह व अन्य ने कहा कि पांच दिन से पानी सड़कों पर है। यहां दो लोग ही पानी निकालने के काम पर लगाए गए हैं। अगर एक घर का सीवरेज बंद हो जाता है तो क्या हालत होती है। यहां तो पूरे शहर का सीवरेज लोगों के घरों के बाहर बह रहा है।

पुलिस को बुलाना पड़ा कंट्रोल करने के लिए : लोगों ने एक घंटे तक यहां सड़क जाम की। उसके बाद यहां एमसी के एक्सईएन विनय महाजन, ईओ मनवीर सिंह गिल और अन्य अधिकारी पहुंचे। लोगों ने इन अधिकारियों को भी खरी खोटी सुनाई।

क्या कहा एक्सईएन ने: यह समस्या हमारे ध्यान में है, पानी की निकासी का प्रबंध कर लिया गया है। यहां अब काफी पानी कम हो गया है। रातभर काम चलेगा। सुबह तक सारा पानी पाइप लाइन से ही निकाला जाएगा। -विनय महाजन, एक्सईएन, एमसी जीरकपुर

एमसी अफसरों ने पुलिस को दी अवैध कॉलोनी बनाने वालों की शिकायत

अगर इसी तरह सख्ती से नियमों का पालन हुआ तो शहर में नहीं बनेंगी अवैध बिल्डिंग्स


अनूप अंजुमन | जीरकपुर

लोकल बाॅडीज डिपार्टमेंट के नियमों की जीरकपुर में अवैध कॉलोनियां बनाने वालों ने कभी परवाह नहीं की। न ही अब तक अवैध कॉलोनियों को सख्ती से रोका गया। इसलिए जीरकपुर अनप्लांड तरीके से बस गया। अब बचे-खुचे एरिया में भी यहां की एमसी के अधिकारी सख्ती नहीं दिखाएंगे तो पूरा शहर अर्बन स्लम बन जाएगा। बुधवार को पभात में बन रही एक अवैध कॉलोनी को रोकने के लिए एमसी के अधिकारियों ने जीरकपुर पुलिस को शिकायत दी कि पंजाब नेशनल बैंक के पास एक अवैध कॉलोनी बनाई जा रही है। उसको रोका जाए। जो भी इसे बना रहा है। उस पर केस दर्ज किया जाए। एमसी के अधिकारियों ने मौके से एक जेसीबी मशीन और कुछ अन्य मशीनरी भी कब्जे में ली है।

19 मार्च, 2018 के बाद बन रही सभी कॉलोनियां अवैध: जीरकपुर एमसी के अधिकारियों ने बताया कि लोकल बाॅडीज डिपार्टमेंट ने 19 मार्च, 2018 के बाद से शुरू हुई कॉलोनियों को पास नहीं किया जाएगा। इनको अवैध कॉलोनियों की कैटेगरी में भी नहीं रखा जाएगा। इसलिए पब्लिक को इस तरह की कॉलोनियों में मकान या किसी तरह का भी निर्माण खरीदना नहीं चाहिए।


पभात एरिया में मार्च के बाद से ही कई कॉलोनियां बनी। बल्कि यहां ग्राउंड प्लस टू कैटेगरी के कई फ्लैट बन रहे हैं। इनको भी रोका जाना चाहिए। यहां पभात-नाभा रोड पर इस समय 200 से भी ज्यादा फ्लैट निमार्णाधीन हैं। जो दो महीनों में ही बने हैं। इन पर भी पुलिस कार्रवाई के लिए लिखा जाना चाहिए।

यह कहा लोगों ने...


अवैध निर्माण किया तो होगी कार्रवाई: यहां किसी भी होने वाले बिल्डिंग के निर्माण को मास्टर प्लान के नियमों के बाहर नहीं होने दिया जाएगा। जो गलत तरीके से निर्माण करेगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। -विनय महाजन, एक्सईएन, जीरकपुर एमसी


जीरकपुर में अवैध निर्माण होना नई बात नहीं है। यहां की एमसी शहर को मास्टर प्लान के मुताबिक बसाने में पूरी तरह से नाकाम साबित हो रही है। पिछले 10 दिनों से एमसी अधिकारी सख्ती बरत रहे हैं। अब आगे भी अगर ऐसी ही कार्रवाई होती रही तो तब जाकर यहां कुछ सुधार होगा।


चंडीगढ़, वीरवार 14 जून, 2018 |

03