Home | Chandigarh Zilla | Mohali | Zirakpur | पीरमुछल्ला एरिया में एयरपोर्ट रोड बनाने से पहले जमीन को बदल दिया गड्ढों में

पीरमुछल्ला एरिया में एयरपोर्ट रोड बनाने से पहले जमीन को बदल दिया गड्ढों में

मोहाली में इटरनेशनल एयरपोर्ट से पंचकूला के बीच बनने वाली पीआर 7 रोड बनाने से पहले इसकी जमीन को बड़ा नुकसान पहुंचाया...

Bhaskar News Network| Last Modified - May 01, 2018, 03:20 AM IST

पीरमुछल्ला एरिया में एयरपोर्ट रोड बनाने से पहले जमीन को बदल दिया गड्ढों में
पीरमुछल्ला एरिया में एयरपोर्ट रोड बनाने से पहले जमीन को बदल दिया गड्ढों में
मोहाली में इटरनेशनल एयरपोर्ट से पंचकूला के बीच बनने वाली पीआर 7 रोड बनाने से पहले इसकी जमीन को बड़ा नुकसान पहुंचाया गया है। पीरमुचछला में जिस जगह यह 200 फुट रोड बनाने की योजना है। वहां अवैध माइनिंग से जमीन को नहर में तब्दील कर दिया गया है। पीरमुच्छला और बीड पीरमुच्छला का करीब दो किलोमीटर का दायरा जेसीबी मशीनों और पोकलेंड मशीनांे से गहरे तक खोदा गया है। यहां सड़क बनाने के लिए अब पहले इन गहरे गड्‌ढों की भराई करनी पड़ेगी। जमीन से निकल रहे पानी को रोकना पड़ेगा। यानि कि सड़क बनाने वाले ठेकेदार भी जमीन को देखकर यहां काम करने से पीछे हट सकते है। क्योंकि जिस जमीन पर सड़क बननी थी। वह कहीं नजर नहीं आ रही है। कहीं पानी के तालाब तो कहीं गहरे गडढे है।

एतराज के बाद भी यहां नहीं रुकी माइनिंग: अवैध माइनिंग करने वाले यहां सालों से यहां जमीन में रेता बजरी और मिटटी तक ले गए हैं। हैरानी की बात यह है कि पीरमुच्छला के लोगों के कई बार एतराज किया पर किसी ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। यहां जमीन अवैध माइनिंग से गड्‌ढों में बदली बदली गई है। पीरच्छैला बीड़ के पास से लेकर आसपास खेतों से कई मीटर गहरे गड्ढे कर यहां अवैध माइनिंग से सब कुछ तबाह करने जैसा नजारा है।

पीरमुचछला में जिस जगह यह 200 फुट रोड बनाने की योजना है वहां की मौजूदा हालत।

लोग बार-बार यह बात उठाते रहे-बचाअो जमीन को

लोगों ने कहा कि यहां जिस जगह माइनिंग होनी है उसके पास से 200 फुट चौड़ी रोड बननी है जो मोहाली में इंटरनेशनल एयरपोर्ट रोड को पंचकूला से जोड़गी। इंटरनेशनल एयरपोर्ट को हरियाणा व हिमाचल को जोड़ने वाली रिंग रोड बनेगी। यह राेड जीरकपुर के विकास के लिए भी अहम मानी जा रही है। इस रोड की जगह माइनिंग होने से यहां गहरे गड्ढे बना दिए गए हंै। अब यहां रोड बनाने से पहले ही करोंड़ांे की बजरी निकाली गई। रोड को बनाने का बजट करोड़ों में बढ़ जाएगा। यहां फोरेस्ट लैंड पर भी माइनिंग की गई है।

जमीन को अब भी बचाने की करनी चाहिए कोशिश

इस एरिया में कई किसानों की जमीनें हंै। अगर इनकी जमीन रिंग रेाड बनाने के लिए एक्वायर होती है तो इनको सरकार की ओर से तय मुआवजा मिलेगा। सरकार से मुआवजा लेने के साथ कई जमीदारों ने यहां रेता बजरी बेच खेत की जगह गड्ढे ही छोड़े है। इसलिए जिला प्रशासन काे चाहिए कि रिंग रोड की प्रोपर नोटिफिकेशन कर यहां जगह काे एक्वायर करे। इसके बाद जमीन पर किसी प्रकार की छेड़छाड़ भी रोकी जाए। यहां प्रशासन की सुपरविजन की कमी के कारण यहां यह हाल हुआ।

सरकार को चाहिए जगह जल्दी एक्वायर करे

यह रोड जीरकपुर के विकास के लिए बेहद अहम है। नगला तक इस सड़क के लिए जमीन एक्वायर हो चुकी है। इसके आगे पीरमुच्छला में अभी जमीन को एक्वायर का काम किया जाना है। सरकार को चाहिए कि जिस जगह सड़क बननी है वहां जमीन एक्वायर कर सड़क बनाने का काम शुरु करे। वहां किसी प्रकार की एक्टीविटी पर पूरी तरह से रेाक लगाए। कुलविंदर सोही, प्रधान एमसी जीरकपुर

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now