--Advertisement--

ढकोली की सड़कों पर पहले की तरह फिर भरा सीवरेज का गंदा पानी

जीरकपुर नगर परिषद के अधिकारी शहर की पब्लिक के प्रति कितनी संजीदगी से काम करती है। इसका एक उदाहरण यहां एमएस...

Danik Bhaskar | Jul 04, 2018, 03:30 AM IST
जीरकपुर नगर परिषद के अधिकारी शहर की पब्लिक के प्रति कितनी संजीदगी से काम करती है। इसका एक उदाहरण यहां एमएस एन्क्लेव के गेट पर मंगलवार को देखने को मिला। 14 जून को यहां जो हालात पैदा हुए थे। ठीक वैसे ही हालात दौबारा से यहां देखने को मिले।

14 जून को यहां गेट से लेकर अंदर कॉलोनी में सीवरेज का गंदा पानी लोगों के घरों तक पहुंच गया था। मंगलवार को बारिश के बाद ओवरफ्लो नाले का पानी यहां फिर से गेट पर भर गया। यह सड़क लोगों के लिए बंद करनी पड़ी। जो यहां से गुजरा उसे खासी परेशानी हुई।

एमसी के अफसरों के काम न करने का नतीजा पब्लिक को पड़ रहा भुगतना : यहां बार-बार गेट पर पानी जमा होने की परेशानी इसलिए आ रही है कि एमसी के अधिकारी इसका पक्का इंतजाम नहीं कर रहे हैं। एक बार इसका पक्का इंतजाम करें तो यहां पानी जमा नहीं होगा। यहां कभी कुदरती नाले के रुप में पानी बहता था। एमसी के अधिकारियों ने नाले पर निर्माणों को कभी रोका नहीं। नाले के पानी के लिए जमीन के अंदर कम क्षमता वाली पाइप लाइनें डाली हैं। जबकि पीछे पंचकूला की ओर से बारिश के समय पानी ज्यादा आता है। इससे यहां नाला ओवरफ्लो होकर सड़क पर बहता है। एमसी के अधिकारियों को 14 जून की घटना के बाद ही इस पर संज्ञान लेकर प्राथमिकता के तौर पर इसे एक प्रोजेक्ट की तरह डील कर पानी की निकासी का पुख्ता प्रबंध करना चाहिए था, पर ऐसा नहीं किया गया।

वहीं एमएस एन्कलेव के निवासी सुनील शर्मा ने बताया कि एमएस एन्क्लेव के गेट पर पानी जमा होना, एमसी के अफसरों के गैर जिम्मेदाराना रवैये का नतीजा है। पिछले दिनों जो हालात पैदा हुए उनको देखकर तब से अब तक इसका कोई ठोस हल निकालना चाहिए था, जो अभी तक नहीं निकला गया है।

पंचकूला की तर्फ से आ रहा है सारा पानी