• Hindi News
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Zirakpur
  • नवजोत सिद्धू के निर्देशों के बाद नक्शे पास करने का काम हुआ बंद, विभाग को हो रहा रेवेन्यू लॉस
--Advertisement--

नवजोत सिद्धू के निर्देशों के बाद नक्शे पास करने का काम हुआ बंद, विभाग को हो रहा रेवेन्यू लॉस

पीरमुच्छला के इम्पीरियल गार्डन में निर्माणाधिन बिल्डिंग गिरने के बाद मौका देखने आए लोकल बॉडीज मंत्री नवजोत सिंह...

Dainik Bhaskar

Jun 26, 2018, 02:00 PM IST
नवजोत सिद्धू के निर्देशों के बाद नक्शे पास करने का काम हुआ बंद, विभाग को हो रहा रेवेन्यू लॉस
पीरमुच्छला के इम्पीरियल गार्डन में निर्माणाधिन बिल्डिंग गिरने के बाद मौका देखने आए लोकल बॉडीज मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने नगर कांउसिल जीरकपुर को निर्देश दिए हैं कि कोई भी नक्शा पास ना किया जाए। इन आदेशों के बाद नगर कांउसिल की ओर से जीरकपुर एरिया में नक्शे पास करने का काम बंद कर दिया गया है। लेकिन, उसके बावजूद निर्माण कार्य में किसी भी प्रकार की काेई कमी नहीं आई है। नगर कांउसिल की आमदन का सबसे बड़ा साधन नक्शा फीस ही है। लोग तो निर्माण कार्य कर रहे हैं, लेकिन नगर कांउसिल को किसी प्रकार की फीस नहीं आ रही है। जिससे कांउसिल को भारी मात्रा में रेवेन्यू लॉस भी हो रहा है।

बिल्डर व अन्य लोग कर रहे हैं निर्माण: नक्शे पास करने के लोकल बॉडीज मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के निर्देशों का ऐसा खौफ है कि नगर कांउसिल में कोई भी नक्शा सिद्धू के आने के बाद से पास नहीं हुआ है। लेकिन, कांउसिल में प्रति दिन सैंकड़ों नक्शे पास होने के लिए आते थे। इन आदेशों के कारण जो पहले कांउसिल के पास, पास होने के लिए आए हुए हैं। उन्हें भी रोका हुआ है और आगे से नक्शे पास ना होने के कारण हजारों लोग जो कानून को मानने वाले हैं, नक्शे पास करवाने के लिए आवेदन के इंतजार में हैं। आलम यह है कि अभी नक्शे ना पास होने के बावजूद भी शहर के हर बिल्डर के यहां और आम लोगों द्वारा निर्माण कार्य जोरों से किया जा रहा है। निगम का फिल्ड स्टाफ भी सब जानते हुए कार्रवाई करने में लाचार हैं। लेकिन, ऐसे सभी जगह की रिपोर्ट बनाई जा रही है।

लोन लेकर मकान बनाने वाले परेशान: नक्शे पास करने पर लगी रोक का असर सबसे अधिक उन लोगों को उठाना पड़ रहा है, जिन लोगों ने अपने मकान या जमीन के लिए लोन लेना है। कोई भी लोन उस समय तक पास नहीं हो पाता, जब तक संबंधित मकान का नक्शा पास ना किया गया हो। ऐसे लोगों द्वारा नगर कांउसिल के चक्कर लगाए जा रहे हैं। अंबाला निवासी लखबीर शर्मा ने बताया कि वे कई बार अपने मकान के नक्शों को लेकर कांउसिल में गए, लेकिन जवाब मिला नक्शे पास करने का काम बंद है। जब नक्शे पास करने के आदेश आएंगे उसके बाद ही कोई कार्रवाई की जाएगी।

म्यूनिसिपल एक्ट को मंत्री ने किया दरकिनार

पंजाब के सभी नगर कांउसिल व नगर कांउसिल को पंजाब म्यूनिसिपल एक्ट 1911 की धारा 195 के तहत नक्शे पास करने का अधिकार मिला हुआ है। इसके तहत किसी को नक्शे बंद करने का अधिकार नहीं है। मंत्री के आदेश इस एक्ट को उल्लंघना कर रहे हैं। अगर किसी ने नक्शे पास करने पर रोक लगानी होगी तो इस एक्ट में संशोधन किया जाना जरूरी है। यह आदेश भले ही इम्पीरियल गार्डन के हादसे के बाद दिए गए थे। लेकिन, इसका सीधा असर आम लोगों पर पढ़ रहा है और जहां हादसा हुआ वहां पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है। लोगों की अपील है कि जल्द से जल्द नक्शे पास करने का काम शुरू किया जाए।

5 करोड़ रुपए की नक्शों की फीस से हर महीने आती है इनकम

नगर काउंसिल की आमदन के साधन में से नक्शा फीस सबसे अहम है। नगर कांउसिल के सूत्रों के अनुसार प्रति माह चार से पांच करोड़ रुपये नक्शा फीस से लिए जाते हैं। नक्शा पास करने का काम बंद होने के कारण कांउसिल को भी आर्थिक नुकसान सहन करना पड़ रहा है। जिसका असर शहर के विकास कार्यों पर आने वाले समय में दिखाई देना संभव है। नगर निगम व लोगों की सुविधा के लिए नक्शों पर लगी रोक को खत्म किया जाना जरूरी है।


-मनबीर सिंह गिल, कार्यकारी अधिकारी नगर कांउसिल जीरकपुर

X
नवजोत सिद्धू के निर्देशों के बाद नक्शे पास करने का काम हुआ बंद, विभाग को हो रहा रेवेन्यू लॉस
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..